बिलासपुर। शहर मे लगातार कुत्तों की संख्या बढ़ते ही जा रही है, हो शाम होते ही अपने आतंक का खेल चालू करते है। बड़े झुंड में रहते हुए सड़को में मंडराते है और राहगीरों पर हमला कर उन्हें घायल करने का काम कर रहे है। सिम्स व जिला अस्पताल से मिली जानकारी के मुताबिक केवल शहरी क्षेत्र में रोजाना 20 से ज्यादा डॉग बाईट का शिकार हो रहे है।

रविवार को सिम्स व जिला अस्पताल से मिली जानकारी के मुताबिक 24 घंटे के भीतर कुत्ता काटने के 42 मामले सामने आए है, इनमें से 21 मामले शहरी क्षेत्र के है। साफ है कि शहरी क्षेत्र में कुत्तों का आतंक बढ़ता ही जा रहा है। इसमे खतरनाक बात यह सामने आई है कि ये कुत्ते अकेले हमला नहीं कर रहे है बल्कि झुंड बनाकर हमला कर रहे है, जो छोटे बच्चे और बुजर्गों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। क्योंकि अंधेरा होने के बाद ही ये हमला बोल रहे है।

विशेषज्ञ चिकित्सकों के मुताबिक बारिश के समय बेसहारा घूमने वाले कुत्तों को रहने की जगह नहीं मिलती है, साथ ही भोजन की भी कमी होती है और फीडिंग सीजन भी रहता है, ऐसे में कुत्ते आक्रमक हो जाते हैं और ये लोगों पर हमला बोलते हैं, इसी वजह से इन दिनों कुत्ते के काटने के मामले बढ़ गए हैं। ऐसे में लोगों को इन दिनों कुत्तों से सावधान रहने की हिदायत दी गई है।

बढ़ी एन्टी रैबीज की खपत

डाग बाइट के मामले बढ़ने के साथ ही एन्टी रैबीज वैक्सीन की खपत बढ़ गई है। जबकि अस्पतालों में इनका सीमित स्टाक है। जबकि अब वैक्सीन का स्टाक वित्त वर्ष खत्म होने के बाद अप्रेल में मिलेगा, ऐसे में सिम्स व जिला अस्पताल प्रबंधन की दिक्कत बढ़ गई है कि यदि कुत्ते इसी रफ़्तार से लोगों के शिकार करते रहेंगे तो आने वाले सप्ताह दस दिन के भीतर वैक्सीन के लाले पड़ जाएगे और पिछले साल की तरह फिर से वैक्सीन की समस्या उठ खड़ी होगी। ऐसे में वैकल्पिक व्यवस्था के तहत सीजीएमएससी को स्टाक कम होने की जानकारी दे दी गई है, साथ ही नया स्टाक भेजने कहा गया है।

शहर में है साढ़े सात हजार कुत्ते

निगम समय समय पर कुत्ते भागने का काम करता है, लेकिन कुछ ही दिनों में वापस लौट आते हैं। इसी तरह संख्या नियंत्रण के लिए कुत्तों की नसबंदी भी किया जाता है। लेकिन इसका भी कोई फायदा नहीं मिल रहा है। इसकी वजह से लगातार कुत्तों की संख्या बढ़ती जा रही हैं। निगम के अनुसार मौजूदा स्तिथि में शहर में 7500 कुत्ते सक्रिय हैं।

इन सड़कों में है कुत्तों का आतंक

वैसे तो शहर के हर सड़क पर कुत्ते नजर आ जाते है। लेकिन शहर के कुछ खास सड़क में इनका आतंक बना हुआ है। इसमे स्मार्ट सड़क, लिंक रोड, सरकंडा रोड, मगरपारा रोड आदि प्रमुख है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close