बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

बोधगया व पटना में वर्ष 2013 में हुए सीरियल ब्लास्ट से जुड़े प्रतिबंधित संगठन सिमी आतंकियों को रायपुर में पनाह मिली थी। छिपाने वाले आरोपित को रायपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसे यहां एनआइए कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट से अनुमति मिलने के बाद रायपुर पुलिस उसे बिलासपुर से लेकर रायपुर के लिए रवाना हो गई है।

हमले की जिम्मेदारी प्रतिबंधित संगठन सिमी के आतंकियों ने ली थी। इस घटना के बाद आतंकियों के रायपुर में छिपे होने की सूचना मिली थी, जिस पर पुलिस ने आधा दर्जन आतंकियों को गिरफ्तार किया था। अब तक इस मामले में 17 आतंकियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। छह साल से फरार अजहरुद्दीन उर्फ अजहर उर्फ केमिकल अली पिता नईमुद्दीन उर्फ बाबू खान मूलतः रायपुर के मौदहापारा का रहने वाला है। पुलिस के अनुसार 32 वर्षीय यह आरोपित आतंकी संगठन के लिए बतौर सहयोगी प्रचार-प्रसार के साथ ही बैठक आयोजित करने जैसे काम करता था। धमाके के बाद उसने आतंकियों को रायपुर में छिपाने में अहम भूमिका निभाई थी। तब से वह फरार चल रहा था। इस बीच रायपुर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। शनिवार की देर शाम उसे बिलासपुर स्थित एनआइए की विशेष अदालत में पेश किया गया। अवकाशकालीन जज के कोर्ट में पेश करने के बाद पुलिस ने उससे पूछताछ के लिए रिमांड पर देने का आग्रह किया। इस पर कोर्ट ने आरोपित को दो दिन के लिए पुलिस रिमांड पर दिया है। अब पुलिस उसे सोमवार दोपहर एनआइए के विशेष कोर्ट में पेश करेगी।