बिलासपुर। प्रदेश के अलग-अलग जिलों में लोगों को मोटा फायदा दिलाने का झांसा देकर 21 करोड़ स्र्पये की धोखाधड़ी कर फरार चिटफंड कंपनी बीएन गोल्ड के दो डायरेक्टर को पुलिस ने पुणे से गिरफ्तार किया है। आरोपित को न्यायालय में पेश कर पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। एसपी दीपक झा ने गुस्र्वार को बिलासागुडी में प्रेसवार्ता लेकर मामले की जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि राज्य शासन ने चिटफंड के माध्यम से ठगी के आरोपितों को गिरफ्तार कर पीड़ितों को रकम वापस दिलाने के निर्देश दिए हैं। बीते दिनों सीएम भूपेश बघेल ने पुलिस अधिकारियों की बैठक में इस संबंध में तेजी लाने को कहा था। इसके बाद पुलिस की एक टीम चिटफंड कंपनी बीएन गोल्ड के फरार डायरेक्टर अनिल शर्मा(40) निवासी डिफेंस कालोनी, लूना नगर पुणे व आनंद निर्मलकर(37) की तलाश कर रही थी।

आरोपित पुलिस को चकमा देने के लिए लगातार अपनी लोकेशन बदल रहे थे। इस पर एसपी दीपक झा ने साइबर सेल के निरीक्षक कलीम खान के नेतृत्व में टीम गठित कर महाराष्ट्र रवाना की। टीम ने 24 घंटे की निगरानी के बाद आरोपित अनिल शर्मा को पुणे के भूमि स्प्रीस विला में दबिश देकर गिरफ्तार किया। वहीं, आनंद निर्मलकर को पुणे के कांधला न्यायाती बिल्डिंग से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस आरोपितों को बिलासपुर लाकर पूछताछ की जा रही है।

प्रदेश भर में 17 मामले हैं दर्ज

बीएन गोल्ड के डायरेक्टर अनिल शर्मा और आनंद निर्मलकर के खिलाफ जिले के तारबाहर, सिविल लाइन और तखतपुर थाने में जुर्म दर्ज है। वहीं, प्रदेश के कांकेर, महासमुंद, सरगुजा, मुंगेली, बलौदाबाजार, कोरबा, बेमेतरा, रायपुर, बालोद और गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले में भी मामले दर्ज हैं। सभी मामलों में पुलिस की जांच जारी है।

टीम में ये रहे शामिल

सीएम के निर्देश पर एसपी दीपक झा ने निरीक्षक कलीम खान नेतृत्व में टीम गठित कर महाराष्ट्र रवाना की। टीम में एएसआइ संतोष पात्रे, आरक्षक सैय्यद अली, मुकेश वर्मा और नवीन एक्का शामिल रहे। वहीं, साइबर सेल की टीम उन्हें तकनीकी मदद कर रही थी।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local