बिलासपुर। छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट ने अनुकंपा नियुक्ति की मांग को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस से विधिक मामले की सुनवाई के लिए बड़ी बेंच गठित करने का आग्रह किया है। सिंगल बेंच ने मामले को चीफ जस्टिस के कोर्ट में रेफर करने छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को निर्देशित किया है। याचिकाकर्ता ने घर की बदहाल आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए पिता की मौत के बाद उनकी जगह अनुकंपा नियुक्ति की गुहार लगाई है।

याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में इस बात की भी जानकारी दी है कि उसके छोटे भाई थल सेना में कार्यरत है। इसके बाद भी उनकी तरफ से कोई आर्थिक मदद घर को नहीं मिल पा रही है। इसके चलते परिवार के सदस्यों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। घर का बड़ा लड़का होने के कारण परिवार के अन्य सदस्यों की भरण पोषण सहित अन्य जिम्मेदारी भी उस पर आ गई है। मामले की सुनवाई जस्टिस संजय के अग्रवाल की सिंगल बेंच में हुई। अनुकंपा नियुक्ति को लेकर राज्य शासन के निर्देशों व गाइड लाइन को लेकर विधि अधिकारियों ने कोर्ट के समक्ष पक्ष रखा। विधिक मुद्दों को लेकर चर्चा करने और याचिका पर सिंगल बेंच ने चीफ जस्टिस से लार्जर बेंच गठित करने का आग्रह किया है।

कोर्ट ने यह भी व्यवस्था दी

मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस अग्रवाल ने कहा कि सेवाकाल के दौरान मृत शासकीय सेवक के आश्रित को अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति प्रदान करते समय राज्य शासन की नीति व मापदण्डों का गम्भीरता के साथ ही कड़ाई से पालन करना चाहिए।

क्या है मामला

सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग में सहायक ग्रेड-दो के पद कार्यरत चंद्रभूषण के निधन के बाद उनके बड़े बेटे पुरेन्द्र सिन्हा ने वकील रत्नेश अग्रवाल के जरिये हाई कोर्ट में याचिका दायर कर कहा कि पिता के निधन के बाद विभाग में अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवेदन दिया था। छोटे बेटे थल सेना में कार्यरत होने का हवाला देते हुए उनके आवेदन को खारिज कर दिया। याचिकाकर्ता ने बताया कि वे और उनका परिवार अपने पिता चंद्रभूषण पर ही आश्रित था। छोटे भाई जो सेना में है, उसका घर में कोई भी आर्थिक योगदान कभी भी नहीं रहा है। उनको अनुकम्पा न दिए जाने पर घर की हालत और भी खराब हो जाएगी।

क्या है नियम

घर के मुखिया शासकीय सेवक की मृत्यु के बाद परिवार का कोई भी सदस्य शासकीय सेवा में है तो किसी अन्य सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति नहीं दी जा सकती।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local