बिलासपुर। Bilaspur News: भुवनेश्वर स्थित नंदन कानन जू से दो मादा हिप्पोपोटामस लाने के लिए कानन पेंडारी जू प्रबंधन ने दो पिंजरा तैयार कर लिया है। दो पशु चिकित्सक और चार जूकीपर के साथ टीम रविवार को भुवनेश्वर के लिए रवाना होगी।

भुवनेश्वर से दो मादा हिप्पोपोटामस लाना है। इसलिए कानन प्रबंधन ने दो पिंजरा तैयार किया है। दोनों खाली पिंजरे को अलग- अलग वाहन में रखा जाएगा। वहां पहुंचने के बाद जब दोनों हिप्पोपोटामस पिंजरे में आ जाएंगे। इसके बाद पिंजरे समेत उन्हें वाहन में रख दिया जाएगा। एक वाहन में दो- दो जूकीपर रहेंगे। जिनका काम केवल बिलासपुर लाते तक हिप्पोपोटामस के ऊपर पानी डालना होगा।

सुरक्षित लाने के लिए यह उपाय जरूरी है। नहीं तो हिप्पोपोटामस को लाना मुश्किल हो जाएगा। यह वन्य प्राणी पूरे समय पानी में डूबा रहता है। इसके अलावा आहार का भी पूरा स्टाक लेकर जाएंगे। मालूम हो कि दोनों जू प्रबंधन के बीच पहले ही वन्य प्राणियों की अदला- बदली के तहत समझौता हुआ था। इसके तहत भुवनेश्वर जू प्रबंधन पहले ही कानन पेंडारी से दो लायन लेकर जा चुका है।

कोरोना के कारण कानन प्रबंधन वहां नहीं जा पा रहा था। पर अब स्थिति पहले से सामान्य है और नए मेहमानों को लाने में किसी तरह की अड़चन नहीं है। दो हिप्पोपोटामस आने के बाद कानन में संख्या चार हो जाएगी। अभी जू में दो नर हिप्पोपोटामस हैं।

इन्होंने कहा

भुवनेश्वर से हिप्पोपोटामस लाने के लिए कानन पेंडारी का दल रविवार को रवाना होगा। कानन पेंडारी पहुंचने के बाद दोनों हिप्पोपोटामस को तीन सप्ताह तक अलग तालाब में रखा जाएगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि किसी तरह का संक्रमण हो तो वह कानन के हिप्पोपोटामस संक्रमित न हो।

वीके चौरसिया

अधीक्षक, कानन पेंडारी जू

Posted By: anil.kurrey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस