बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोयला में मिलावट की सूचना की जांच करने प्लांट जा रहे फिल कोल बेनीफिकेशन प्राइवेट लिमिटेड के मैनेजर को नकाबपोश बदमाशों ने घेर लिया। इसके बाद चाकू दिखाकर हत्या करने की धमकी दी। मैनेजर और उसके स्टाफ ने भागकर अपनी जान बचाई। पीड़ित की शिकायत पर सकरी पुलिस ने अपराध दर्ज किया।

कोरबा जिले के दीपका पाली के रहने वाले संतोष सिंह फिल कोल बेनीफिकेशन प्राइवेट लिमिटेड के मैनेजर हैं। उसकी कंपनी एसईसीएल के आक्सन पर कोयला खरीदकर व्यवसाय करती है। कंपनी की एक कोल वासरी रायगढ़ में भी संचालित होती है। 21 सितंबर को कोयला लोड ट्रेलर रायगढ़ से बिलासपुर कोल वासरी घुटकू के लिए रवाना हुआ था। 23 सितंबर को मैनेजर को सूचना मिली कि रायगढ़ से वासरी आने वाली गाड़ी तिवारीपारा में है। वहां में कोयला चोरी हो रहा है। सूचना पर मैनेजर अपने स्टाफ के साथ जांच करने रवाना हुए।

अधिक ब्याज का झांसा देकर बिलासपुर रेलवे स्कूल के प्रधान पाठक से 21 लाख 53 हजार की ठगी

तिवारीपारा से प्लांट की ओर जाने वाले मार्ग में मोड़ पर दो नकाबपोश युवकों ने हाथ दिखाकर रोक लिए और पूछताछ करने लगे। दोनों युवकों ने आगे बढ़ने पर जान से मारने की धमकी दी। मैनेजर को गाड़ी से नीचे उतारने का प्रयास किया। इस बीच मैनेजर ने गाड़ी की स्पीड बढ़ाकर भाग गए। वहां से प्लांट पहुंचे। प्लांट के अंदर कंपनी की कोयला लोड तीन गाड़ी खड़ी थी। तीनों गाड़ियों में जेसीबी व लोडर से कोयले को बदला जा रहा था। वहां पर कमल भिमनानी और फैजल खान खड़े थे और मैनेजर के साथ दुर्व्यवहार करने लगे। जब मैनेजर ने वीडियो बनाना शुरू किया, तब प्लांट के स्टाफ व कमल भिमनानी फरार हो गए। पुलिस इस मामले में कोयला अफरा-तफरी के तहत अपराध दर्ज किया। पुलिस इस मामले की विवेचना में जुटी है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close