बिलासपुर। जिले के अधिकांश सरकारी स्कूलों में अभी तक बिजली कनेक्शन उपलब्ध नहीं है। इससे सबसे ज्यादा परेशानी गर्मी के मौसम में होती है। स्कूलों में बिजली नहीं होना सबसे बड़ी समस्या हैं। इस समस्या को दूर करने के लिए स्कूल शिक्षा सचिव ने जिला शिक्षा अधिकारी डीके कौशिक को पत्र लिखकर सभी स्कूलों में बिजली कनेक्शन जोड़वाने के निर्देश दिए हैं। बिजली आपूर्ति शुरू होने के बाद अवगत कराने के लिए भी कहा गया है।

सरकारी स्कूलों में बच्चों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। लेकिन स्कूलों की सुविधा जस के तस है। शासन ने नए भवन तो बनवा दिया है पर कई प्रकार की सुविधा उपलब्ध नहीं करवाई गई है। यहां तक कि बिजली जैसी मूलभूत सुविधा तक उपलब्ध नहीं है। इसके कारण बच्चों को भीषण गर्मी से लेकर अंधेरे में पढ़ना पड़ता है। राज्य सरकार नए भवन बनाने वाले ठेकेदारों को निर्माण कार्य से लेकर बिजली कनेक्शन के लिए पैसे देती है। लेकिन ठेकेदार और अधिकारियों के मिलीभगत के चलते आधे अधूरे भवन बनाकर हैंडओवर कर दिया जाता है। जिम्मेदार अधिकारी भी ध्यान नहीं देते हैं। इसका खामियाजा बच्चों और शिक्षकों को भुगतना पड़ता है।

बिल जमा करने स्वतंत्र नहीं हैं स्कूल प्रबंधन

बिजली बिल भरने के लिए स्कूल प्रबंधन स्वतंत्र नहीं है। स्कूल परिसर व भवनों की मरम्मत, रंगरोगन, शौचालयों की स्वच्छता व दुरुस्ती के लिए वार्षिक निधि से राशि मिलती है। पर इसका उपयोग बिजली कनेक्शन में नहीं किया जाता है। इसके कारण कई स्कूलों में बिजली कनेक्शन नहीं जोड़ा गया है। अधिकांश स्कूलों में अवैध कनेक्शन से काम चल रहा है। जिले में ऐसे सैकड़ों स्कूल हैं, जहां पड़ोस के मकान से बिजली कनेक्शन जोड़े गए हैं। अवैध बिजली कनेक्शन सुरक्षा की दृष्टि से सही नहीं है। स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे थे। अब नए सत्र शुरू होने से पहले जिन स्कूलों में बिजली कनेक्शन नहीं है। वहां बिजली कनेक्शन जोड़ दिया जाएगा।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close