बिलासपुर/मुंगेली। नईदुनिया प्रतिनिधि

मुंगेली प्रवास के दौरान यातायात नियम तोड़ने को लेकर चल रही चर्चाओं के बीच पंचायत एवं स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने अपनी गलती स्वीकार कर ली है। उन्होंने कलेक्टर-एसपी से चर्चा कर पांच सौ रुपये का चालान कार्यकर्ताओं के हाथ भेजा और शुल्क जमा कराया।

प्रदेश के पंचायत एवं स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को मुंगेली जिले का प्रभारी बनाया गया है। लिहाजा, मंत्री सिंहदेव बीते 11 सितंबर को मुंगेली प्रवास पर थे। यहां उन्होंने डीएमएफ फंड परिषद की बैठक ली। इसमें शामिल होने के लिए वे हेलिकॉप्टर से आए थे। हेलिपैड में समर्थकों के कहने पर वे स्कूटी में सवार होकर कलेक्टोरेट पहुंचे। मंत्री को अपनी स्कूटी में बैठाने वाले कांग्रेस नेता देवेंद्र वैष्णव ने इस दौरान यातायात नियमों का खुलेआम उल्लंघन किया। चूंकि, उनकी स्कूटी में प्रदेश के मंत्री सवार थे और नियमों की अनदेखी की बात पूरे प्रदेश में सोशल मीडिया के जरिए वायरल हुआ। दरअसल, न तो स्कूटी चलाने वाले ने हेलमेट लगाया था और न ही स्वास्थ्य मंत्री ने। इस दौरान उनके काफिले में बाइक सवार ज्यादातर कांग्रेसी बिना हेलमेट के ही फर्राटे भर रहे थे। सोशल मीडिया में यह खबर वायरल होने के बाद प्रभारी मंत्री सिंहदेव ने सहज अपनी गलती स्वीकार की। उन्होंने नियमों की अवहेलना करने को लेकर कलेक्टर व एसपी से चर्चा की। साथ ही चालान जमा करने की इच्छा जाहिर की। उन्होंने अपने समर्थक कार्यकर्ताओं के माध्यम से पांच सौ रुपये भेजकर चालान काटने की बात कही। उनके निर्देश पर शुक्रवार को समर्थक राकेश पात्रे, श्याम जायसवाल, देवेंद्र वैष्णव, राजा माणिक, सुनील मंगेश्कर, रामकुमार साहू, विनय चोपड़ा ने टीआइ केशव नारायण आदित्य के पास चालान की राशि जमा की।