बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। ट्रेनों की लेटलतीफी का सिलसिला बुधवार दशहरा पर्व के दिन जारी रहा। एक या दो नहीं, बल्कि 12 ट्रेनें निर्धारित समय से दो से 12 घंटे देरी से पहुंचीं। अहमदाबाद एक्सप्रेस समेत कुछ ऐसी ट्रेनें थीं, जिनका रात में आने का समय है। लेकिन ये ट्रेनें सुबह पहुंचीं। इससे यात्री परेशान रहे। खासकर ऐसे जिन्हें कोलकाता या अन्य स्टेशनों के लिए यात्रा करनी थी, उन्हें रेलवे स्टेशन में ही रात गुजारनी पड़ी।

ट्रेनों की लेटलतीफी सुधरने वाली नहीं है। मंगलवार की तरह बुधवार को भी इन ट्रेनों के परिचालन की स्थिति बेहद चिंताजनक रही। दरअसल यात्री पर्व में घर जाना चाहते थे। वहीं कई ऐसे थे, जो लौट रहे थे। लेकिन परिचालन समय के कारण वह समय पर नहीं पहुंच सके। इसके चलते उनमें नाराजगी भी नजर आई। यात्री कह रहे हैं दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन में ट्रेनों के परिचालन की स्थिति इतनी बदतर पहले कभी नहीं रही है। बावजूद इसके रेल प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। इसके चलते यात्रियों को घंटों स्टेशन में ही ट्रेन के इंतजार करते रहे। यात्रियों का कहना था कि प्रशासन खुद नहीं चाह रहा है कि यात्रियों को राहत मिल सके। नहीं तो इसकी वजह से दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता। ट्रेन पर समय नहीं चलने वाली। ट्रेनों को लाने के लिए रेलवे कई बार ट्रेनें रद की हैं।

जानिए कौन सी ट्रेन कितनी लेट पहुंची

अहमदाबाद- हावड़ा एक्सप्रेस - 11 घंटे

एलटीटी- कामान्य एक्सप्रेस - साढ़े तीन घंटा

इंदौर- पुरी एक्सप्रेस - दो घंटा

इंटरसिटी- बिलासपुर एक्सप्रेस - साढ़े सात घंटा

हावड़ा- पोरबंदर एक्सप्रेस - साढ़े चार घंटा

इंदौर- बिलासपुर नर्मदा एक्सप्रेस - एक घंटा

दूरंतो - छह घंटा

हावड़ा- पुणे आजाद हिंद एक्सप्रेस - तीन घंटा

बीकानेर- पुरी एक्सप्रेस - तीन घंटा

अमृतसर- बिलासपुर छत्तीसगढ़ एक्स. - ढाई घंटा

हावड़ा- अहमदाबाद एक्सप्रेस - दो घंटा

राजधानी एक्सप्रेस - दो घंटा

उत्कल एक्सप्रेस - चार घंटा

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close