बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

ट्रेनों में आरक्षित महिला व दिव्यांग कोच में सफर करना 82 यात्रियों को महंगा पड़ा। जांच के दौरान आरपीएफ ने इन यात्रियों को पकड़कर उनके खिलाफ रेलवे अधिनियम के तहत कार्रवाई की है।

यह कार्रवाई विशेष अभियान के तहत की गई। ट्रेनों में दिव्यांग व महिलाओं के लिए अलग कोच की सुविधा होती है। इसमें वही यात्री सफर कर सकते हैं, जिनके लिए आरक्षित है। इसका उल्लंघन करना अपराध की श्रेणी में आता है। लेकिन महिला कोच में पुरुष यात्रियों का कब्जा और दिव्यांग कोच में सामान्य यात्री सीट पर जबरिया बैठ जाते हैं। इसके कारण जिनके लिए यह कोच आरक्षित है, उन्हें खड़े रहकर यात्रा करनी पड़ती है। कुछ यात्री जानबूझकर लापरवाही करते हैं तो कई हड़बड़ी या अनजाने में कोच के अंदर चढ़ जाते हैं। ऐसे यात्रियों को सबक सिखाने और आरक्षित कोच की व्यवस्था सुधारने के लिए ही इस अभियान चलाया गया। इसमें बिलासपुर के अलावा ब्रजराजनगर, रायगढ़, चांपा, कोरबा, पेंड्रारोड, अनूपपुर, मनेंद्रगढ़, अंबिकापुर, उसलापुर, उमरिया, कटनी सभी स्टेशनों में आरपीएफ ने ट्रेनों की जांच की। इस दौरान जो भी उल्लंघन करते नजर आए, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। आरपीएफ के अनुसार महिला कोच में 51 पुरुष यात्रियों को पकड़ा गया। उनके खिलाफ रेलवे अधिनियम की धारा 162 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया। वहीं दिव्यांग कोच में 31 यात्रियों पर धारा 155 के तहत कार्रवाई की गई।

Posted By: Nai Dunia News Network