बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

गेवरारोड-अमृतसर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में अनब्रांडेड तेल, आटा, मिर्च व मसाले का इस्तेमाल किया जा रहा है। ये खामियां उस समय उजागर हुई, जब हैदराबाद लौटते समय आइआरसीटीसी के जीजीएम ने पेंट्रीकार जांच की। उन्होंने इस लापरवाही के लिए मैनेजर से लेकर कर्मचारियों को जमकर फटकार लगाई। साथ ही व्यवस्था में तत्काल सुधार करने का आदेश दिया।

हैदराबाद से आइआरसीटीसी के दो अफसर बिलासपुर दौरे पर आए थे। मंगलवार को वापसी में दोनों छत्तीसगढ़ से ही रायपुर तक गए। उन्होंने ट्रेन की पेंट्रीकार का निरीक्षण करने का निर्णय लिया। ट्रेन के बिलासपुर से छूटते ही एरिया मैनेजर राजेंद्र बोरबन के साथ पेंट्रीकार में पहुंच गए। अचानक अफसरों की मौजूदगी से पेंट्रीकार के मैनेजर व कर्मचारी सकते में आ गए। अफसरों ने सामान की जांच की तो पता चला कि आटा, तेल, मिर्च व मसाला ब्रांडेड नहीं है। नियमानुसार उन्हें एप्रुव्ड कंपनी का ही सामान रखना है। मैनेजर और कर्मचारी उनके सवालों का जवाब नहीं दे सके। दोबारा इस तरह की लापरवाही नहीं करने की चेतावनी दी गई है।

मेडिकल न आइ कार्ड, बर्तन भी एल्युनियम का

जांच के दौरान अफसरों ने कई खामियां पकड़ीं। इनमें प्रमुख मेडिकल व आइ कार्ड था। कर्मचारियों के पास दोनों नहीं थे। जबकि नियमानुसार मेडिकल कार्ड बेहद जरूरी है। इससे पता चलता है कि यात्रियों को खाने-पीने का सामान परोसने वाला कर्मचारी स्वस्थ है और उसे किसी तरह की बीमारी नहीं है। यात्रियों को किसी तरह संक्रमण का खतरा नहीं है। इतना ही नहीं खाना बनाने के लिए पेंट्रीकार में एल्युमिनियम बर्तन का उपयोग कर रहे थे। यह नियम के विपरीत था। उन्हें साफ तौर पर केवल स्टील के बर्तनों का उपयोग करने का आदेश है। इसके लिए भी जमकर फटकार लगाई गई।

रिपोर्ट के बाद होगा जुर्माना

अफसरों ने पेंट्रीकार संचालक के खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई करने का भी निर्णय लिया है। हालांकि जुर्माना कितने का होगा, अभी तय नहीं है। इसके लिए एरिया मैनेजर कार्यालय से जांच की रिपोर्ट भेजी जाएगी। इसमें जुर्माने की अनुशंसा भी होगी। इसी के आधार पर अफसर जुर्माना का आदेश जारी करेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network