बिलासपुर। Willfulness By Private Schools: कोरोना से अनाथ हुए बच्चों को एक ओर राज्य सरकार ने कई तरह की छूट और स्कूलों को निश्शुल्क प्रवेश देने का आव्हान किया है। वहीं शहर के निजी स्कूल इस पर भी मनमानी कर रहे हैं। एनएसयूआइ के पास शुल्क वसूली को लेकर कुछ शिकायतें भी मिली हैं। सोमवार को कार्यकर्ताओं ने इसे लेकर जिला शिक्षा अधिकारी का घेराव कर विरोध किया।

एनएसयूआइ के प्रदेश सचिव लक्की मिश्रा समेत बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने जिला शिक्षा अधिकारी एसके प्रसाद को ज्ञापन सौंपा। कहा कि राज्य सरकर द्वारा कोरोना काल में जिन बच्चों के माता पिता की मृत्यु हुई है उन्हें निश्शुल्क शिक्षा प्राइवेट व सरकारी स्कूलों में देने को कहा गया है। लेकिन, शहर के कुछ निजी स्कूल मनमानी कर रहे हैं। शुल्क के लिए बच्चों पर दबाव बना रहे हैं।

मांग की गई कि इस पर तत्काल ध्यान देते हुए उचित निर्णय लिया जाए। ऐसे निजी स्कूलों पर त्वरित कार्रवाई की जाए। मामले में जिला शिक्षा अधिकारी ने जल्द नोटिस जारी कर जवाब मांगने की बात कही है। इस अवसर पर प्रदेश सचिव अभिलाष रजक व जिला महासचिव विवेक साहू प्रमुख रूप से उपस्थित थे। मालूम हो कि फीस को लेकर पहले से ही निजी स्कूलों और अभिभावकों का विवाद चल रहा है। छात्र संगठनों की ओर से भी विरोध दर्ज कराया जा रहा है। वर्तमान में भी यह समस्या बरकरार है।

इन सबके बीच अब कोरोना काल में जीवन की सबसे बड़ी आपदा झेल चुके नौनिहालों के साथ ऐसा बर्ताव किसी को पच नहीं रहा है। यही वजह है कि अब अभिभावक संगठन की ओर से भी ऐसे बच्चों के भविष्य को लेकर रणनीति बनाई जा रही है।

Posted By: sandeep.yadav

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags