बिलासपुर। पर्यावरण संरक्षण के लिए होल्हाबाग नवयुवा समिति बांकी द्वारा पौधरोपण व संरक्षण के लिए हरियर बांकी-सुघ्घर बांकी अभियान चलाया जा रहा है।

सातवें वर्ष के चतुर्थ चरण के अंतर्गत 21 पौधों का रोपण के लिए ट्री गार्ड लगाए साथ ही बीते छह वर्ष में लगाए गये पौधों में उगे खरपतवारों की सफाई की गई। प्रकृति संरक्षण सेवा की पहल में समिति के युवाओं ने उत्साह के साथ हिस्सा लिया। इस अवसर पर संस्थापक रामपाल सिंह, संयोजक नागेश साहू, अध्यक्ष पवन निर्मलकर,योगेंद्र साहू, निरंजन मानिकपुरी, बबलू साहू, संजय यादव, मुकेश श्रीवास, रामू साहू, पालु श्रीवास, टाइगर साहू, रेसराम निर्मलकर, संजय पूरी, टीपूचंद, भ्वानी छोटू, आशीष निर्मलकर, शुभम,कशन यादव, हेमलाल निर्मलकर, प्रताप रजक सहित संस्था के साथ बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे।

संत गोस्वामी तुलसीदास जयंती का हुआ आयोजन

अरपांचल कला एवं साहित्य मंच एवं आनंद फाउंडेशन पेण्ड्रा के संयुक्त तत्वाधान में श्री रामचरित मानस के रचयिता संत गोस्वामी तुलसीदास की जयंती मनाई गई। यह आयोजन युवा साहित्यकार आशुतोष आनंद दुबे के निवास पर आयोजित किया गया। यह आयोजन पिछले कई वर्षों से युवा साहित्यकार के निवास में प्रतिवर्ष आयोजित किया जा रहा। उसी परंपरा अनुसार इस वर्ष भी तुलसीदास जी की जयंती मनाई गई। इस आयोजन में ग्राम बचरवार की साप्ताहिक रामायण मण्डली ने रामचरित मानस का सुंदर संगीतमय पाठ एवं संकीर्तन किया। इस दौरान मानस मर्मज्ञ तथा सेवानिवृत्त व्याख्याता रामकुमार दुबे ने तुलसीदास जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके द्वारा रचित कृतियों का सूक्ष्मता से वर्णन किया। वर्तमान परिवेश में गोस्वामी तुलसीदास जी एवं उनकी कृतियों के माध्यम से समाज में पड़ने भावों का वर्णन किया। रामचरित मानस की चौपाईयों के माध्यम से शिव विवाह चरित का सुंदर वर्णन किया। इसी तारतम्य में श्रीमद्भागवत कथा वाचक संजीत पाण्डेय ने सुंदर वर्णन करते हुए रामचरित मानस के चौपाईयों का पाठ किया। साथ ही उन्होंने कहा कि रामचरित मानस के नियमित पाठ से ही इस भवसागर से मुक्ति मिल सकती है। इस दौरान मानस रसिक केशव राठौर ने भी तुलसीदास जी के जीवन वृत पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का संयोजन युवा साहित्यकार आशुतोष आनंद दुबे ने किया। उन्होंने इस परंपरा का निर्वहन करते हुए कहा कि आगे भी प्रतिवर्ष हमारे प्रेरणापुंज श्रद्धेय संत गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती का आयोजन और अच्च्कि भव्य रूप में होता रहेगा। कार्यक्रम में रामकुमार दुबे, गजेंद्र दुबे, बोधराम , पिलाराम, कन्हैया राठौर, संजीत पाण्डेय, आयुष दुबे, रामकृष्ण दुबे, प्रतीक तिवारी, रामकुमार वैष्णव, भूपेंद्र राठौर उपस्थित रहे।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close