बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कानन पेंडारी जू में कार्यरत जूकीपरों को प्रबंधन ने गर्म कपड़ा वितरण किया है। उन्हें इसकी आवश्यकता थी। दरअसल अभी ठंड बढ़ रही है। इसलिए जू प्रबंधन गर्म कपड़े खरीदे। सभी कपड़ों में बकायदा जू का मोनो लगा है। इसके अलावा उनका रंग भी एक जैसा है, ताकि कर्मचारियों में एकरूपता दिखे और पर्यटकों को भी यह जानकारी मिल सके कि वह जू के ही कर्मचारी हंै। इससे वे कर्मचारियों की जरूरत पड़ने पर मदद भी ले सकते हैं।

कानन पेंडारी जू में 45 से अधिक जूकीपर हैं। यह दैनिक वेतन भोगी। इन्हें कम वेतन मिलता है। ऐसी स्थिति में उनके सामने आर्थिक समस्या रहती है और वे गर्म कपड़े खरीदने में भी सक्षम नहीं रहते। हालांकि जू प्रबंधन उनका ख्याल रखता है और मौसम के अनुकूल उन्हें सुविधाएं देने का प्रयास करता है। बरसात के सीजन में रेन कोट दिया जाता है, ताकि जू ड्यूटी में आने पर किसी तरह की दिक्कत न हो। अभी गर्म कपड़े इसीलिए दिए हैं कि वे समय पर जू में उपस्थित हो सकें। अभी ठंड बढ़ गई है।

हरियाली होने के कारण जू में ठंड ज्यादा रहती है। जू में यही कर्मचारी सभी महत्वपूर्ण कामकाज को संभालते हैं। जू व केज की सफाई से लेकर वन्य प्राणियों को खानपान की सुविधा यही उपलब्ध कराते हैं। यदि किसी कारणवश समय पर नहीं पहुंच पाते हैं या फिर स्वास्थ्य बिगड़ गया तो इसकी वजह से कामकाज प्रभावित हो सकता है। जू प्रबंधन यह बात जानता है। इसलिए यह कोशिश करता है कि कर्मचारियों को किसी तरह असुविधा न हो। जब जूकीपरों को जू प्रबंधन के द्वारा गर्म कपड़े बांटे गए हैं, तो वह बेहद खुश हुए। गर्म कपड़े का रंग एक जैसा है और उनके यूनिफार्म के रंग का है। इसके अलावा सामने में जू का मोनो है। इससे उनकी पहचान होगी और आवश्यकता पड़ने पर पर्यटक उनकी मदद ले सकते हैं। खासकर जब किसी चीजों को जानने की उत्सकुता होती है तो पर्यटक ऐसे व्यक्ति खोजने का प्रयास करते हैं, जो उन्हें सही जानकारी दे सके।

Posted By: Manoj Kumar Tiwari

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close