राजेश शुक्ला, कांकेर। खतरनाक 7 अंधे मोड़ की वजह से कभी लगातार दुर्घटनाओं का केंद्र बने चारामा घाट का नक्शा अब बदल चुका है। भूतल व सड़क परिवहन विभाग ने राष्ट्रीय राजमार्ग-30 धमतरी से कांकेर चौड़ीकरण व उन्न्यन के तहत रायपुर से 101 किमी दूर स्थित इस खतरनाक घाट को सीधे सड़क के रूप में बदल दिया है।

लगभग 4.5 करोड़ रुपए की लागत से इस पेच का काम रायपुर के मेसर्स बारबरिक डीवी ज्वॉइंट वेंचर नामक कंपनी ने किया है। लगभग 40 मीटर ऊंची पहाड़ियों को काटकर टू लेन सड़क बना दी गई है।

निर्माण के बाद इस घाट के सड़क की लंबाई अब मात्र 1 किमी रह गई है। लोक निर्माण विभाग के एसडीओ व योजना के प्रभारी संतोष नेताम ने बताया कि फरवरी के प्रथम सप्ताह में यह मार्ग आवागमन के लिए खुल जाएगा।

सड़क तो तैयार है, मगर 33 मीटर की खाई से गुजरने और दोनों तरफ कच्चा पहाड़ होने से प्रोटक्शन वर्क पूरा करने के बाद ही इसे लोकार्पित किया जाएगा। पहाड़ी के कटे हिस्से पर लोहे का जालीदार नेट बिछाया जाएगा, जिससे चट्टान सड़क पर ना गिर पाएं।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close