चारामा (निप्र)। बिना रीडिंग के मनमाना बिजली बिल भेजने सहित कई अन्य बिजली संबंधी शिकायतों को लेकर शुक्रवार को अंचल के किसानों ने स्थानीय विद्युत विभाग के कार्यालय में आयोजित समस्या निवारण शिविर में जमकर हंगामा किया। किसान इस बात को लेकर आक्रोशित थे कि विगत कई काम से अपनी समस्या रखने के बाद भी विभाग उन्हें हल करने में गंभीरता नहीं दिखा रहा है। उल्टे उन्हें लगातार गुमराह करने की कोशिश कर रहा है। किसानों ने कहा कि एवरेज बिल के नाम पर उन्हें लूटा जा रहा है और जिम्मेदारों पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। इस मौके पर अधिकारियों ने जांच के बाद समस्या का हल करने का आश्वासन दिया। वहीं किसानों ने समस्या पूरी तरह हल नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

अंचल के किसान पिछले दो महीने से अपनी बिजली संबंधी समस्या को लेकर आक्रोशित हैं। उनका आरोप है कि विभाग एवरेज बिल के नाम पर उन्हें लंबा-चौड़ा बिल थमा रहा है। कई किसानों को तो शून्य खपत के बाद भी चार हजार रुपए तक का बिल भेजा जा रहा है। किसानों द्वारा पूर्व में किए गए आंदोलनों के बाद कुछ किसानों के बिल में सुधार भी किया गया, किंतु किसान इससे संतुष्ट नहीं हुए। वे इस समस्या को पूरी तरह खत्म करने की मांग को लेकर अड़े रहे। शुक्रवार को किसानों की लंबित मांगों को लेकर विद्युत विभाग कार्यालय के सामने ए गोपेवार कार्यपालन यंत्री की उपस्थिति में विद्युत विभाग के इंजीनियर एई आरएस वर्मा और अन्य कर्मचारियों द्वारा किसानों के लिए विद्युत समस्या निवारण शिविर का आयोजन किया गया। किंतु शिविर में किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं हो पाया। इससे अपने बढ़े हुये बिजली बिल को लेकर अधिकारियों के सामने किसानों ने जमकर हंगामा मंचाया। विभाग द्वारा मीटर रीडिंग में की जा रही धोखाधड़ी को लेकर अधिकारियों से किसानों ने जवाब तलब भी किया। चारामा विकासखंड के अंतर्गत के सभी किसानों के बिजली बिलों में विभाग के कर्मचारियों एवं अधिकारियों द्वारा छेड़छाड़ किये जाने की शिकायत को लेकर संभागीय कार्यपालन यंत्री गोपेवार असमर्थ नजर आये। उक्त अधिकारी द्वारा किसानों के समक्ष अपनी गलती को स्वीकार भी किया गया।

इस दौरान किसानों ने मांग की कि जब तक राज्य सरकार द्वारा किसानों को मुफ्त में दिए जाने वाले 6000 यूनिट का हिसाब नहीं दिया जाता, तब तक किसान विद्युत बिल नहीं पटाएंगे। शिविर में गांधीराम साहू चांवडी ने मीटर अधिक घूमने के संबंध में, मधुसूदन कलार चुचरूगपुर ने बिल अधिक आने के संबंध में, देवाराम कलार करिहा ने विद्युत फलेट करने बावत्‌, श्याम कलार डोकला ने मीटर बदलने बावत्‌, जीवनराम कलार डोकला ने भी मीटर बदलने के संबंध में, मनोहर एवं अन्य कृषक ने ट्रांसमीटर बदलने, श्रीमती संगनी बाई कण्डेल ने मीटर जल जाने, केदादास मचान्दुर ने मीटर जल जाने, चंद्रभान केसर कसावाही ने स्थायी पंप के संबंध में, धनाराम साहू मचान्दुर ने मीटर खराब होने, अभिलाशा जुलियर साल्हेटोला स्थायी पम्प के संबध में, बरनराम साल्हेटोला बिल अधिक आने के संबंध में व अन्य किसानों ने अपनी समस्याएं दर्ज कराई।

दो महीने बाद भी समस्या का हल नहीं

ग्राम तांसी के परमेश्वर जैन ने 7 मार्च को कलेक्टर को विद्युत विभाग द्वारा मनमाने तरीके से मीटर कनेक्शन काटकर वायर चोरी करने की शिकायत की थी। उसकी जांच दो महिने बाद भी नहीं होने पर परमेश्वर जैन ने भी अधिकारी के समक्ष जमकर हंगामा किया और विद्युत विभाग के अधिकारी पर लापरवाही करने का आरोप लगाया।

6000 यूनिट के ऊपर का ही पटाना होगा बिल

किसानों की इतनी सारी समस्याएं सुनकर कार्यपालन यंत्री भी उनकी समस्याओं पर चुप नजर आये। अंत में उन्होंने किसानों को आश्वस्त करते हुए कहा कि सभी किसानों का फरवरी, मार्च और पूरे साल का विद्युत रीडिंग चेक किया जायेगा। जिन किसानों का 6000 यूनिट तक विद्युत बिल आ रहा होगा, उसे छोड़कर जिन किसानों का उससे अधिक बिल होगा, उसका बिल किसानो को पटाना होगा।

जल्द से जल्द समस्या हल करने की मांग

किसानों ने अब तक विभाग द्वारा किसानो ंसे बिल के नाम पर अधिक बिल जमा कराने वाली राशि के बारे में पूछने पर अधिकारी ने जांच करने की बात कही। किसानों ने जल्द से जल्द समस्याओं के निदान की बात अधिकारी को कही। वहीं समस्या का निदान नहीं होने पर अधिकारों के लिए कृषक संगठन द्वारा आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

-----------------------------

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close