कोंडागांव। कोरोना वायरस के नये और खतरनाक वैरियंट ओमिक्रोन सामने आने के बाद जिला प्रशासन द्वारा प्रत्येक व्यक्ति सुरक्षित रखने कोरोना टीकाकरण तिहार के रूप में चलाया जाएगा। इसके लिए 12 दिसंबर को एक दिन में एक लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण का प्रयास किया जाएगा।

कोरोना टीकाकरण तिहार के द्वारा कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी को टीकाकरण द्वारा रोकने के प्रयास के लिए मनाए जा रहे। इस तिहार के लिए लोगों को घर-घर जाकर हल्दी, चावल से तिलक कर तिहार में शामिल होने के लिए न्यौता दिया जाएगा। इसके लिए विभिन्नाा कला जत्थों द्वारा मनोरंजक कार्यक्रमों से लोगों को जागरूक करते हुए गांव-गांव जाकर लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा। हर गांव और नगरों में ध्वनि विस्तारक यंत्रों और दीवार लेखन द्वारा टीकाकरण केंद्रों की जानकारी पूर्व में प्रस्तारित कर दी जाएगी।

घर-घर जाकर किया जाएगा सर्वे

12 दिसंबर के तिहार के पूर्व जिला प्रशासन द्वारा घर-घर जाकर टीकाकरण के लिए शेष लोगों के चिह्नांकन के लिए सर्वे किया जाएगा। सर्वे का कार्य 04-05 दिसंबर के मध्य पूर्ण करने के पश्चात छह दिसंबर से 10 दिसंबर तक कर्मचारियों को अभियान के संचालन हेतु प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसमें पहले ब्लाक स्तर पर फिर ब्लाक से ग्राम पंचायत स्तर पर प्रशिक्षण दिया जाएगा। स्कूली बच्चों के द्वारा लोगों को प्रेरित करने के लिए शिक्षण समय के पहले अथवा बाद में जागरूकता रैली निकाली जाएगी। टीकाकरण तिहार के दिन व्यवस्थाओं के संचालन के लिए 11 दिसंबर को माकड्रिल करते हुए संभावित समस्याओं का निदान किया जाएगा। ब्लाक और ग्राम पंचायत स्तर पर डाटा संग्रहण केंद्र स्थापित किया जाएगा। इन केंद्रों के समन्वयन के लिए जिला स्तर पर कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा।

कोरोना टीकाकरण तिहार के लिए जिले के समस्त विभागों के कार्मिकों की सहभागिता से अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए जिला और ब्लाक स्तर के अधिकारियों को तीन-तीन ग्राम पंचायतों के लिए नोडल नियुक्त करते हुए उनके समन्वयन और संचालन की जिम्मेदारी दी जाएगी। कोरोना टीकाकरण तिहार के माध्यम से हर व्यक्ति तिहार में शामिल होकर कोरोना के खिलाफ जंग में अपना योगदान दे सकेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close