दंतेवाड़ा। बिलासपुर के मार्गदर्शन में छत्तीसगढ़ राज्य में तालुका स्तर से लेकर उच्च न्यायालय स्तर तक सभी न्यायालयों में नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। इसमें राजीनामा योग्य प्रकरणों में पक्षकारों की आपसी सहमति व सुलह समझौता से निराकृत किये गये हैं।

उक्त लोक अदालत में प्रकरणों के पक्षकारों की भौतिक तथा वर्चुअल दोनों ही माध्यमों से उनकी उपस्थिति में निराकृत किये जाने के अतिरिक्त स्पेशल सेटिंग के माध्यम से भी पेटी आफिस के प्रकरणों का निराकरण किया गया हैं। विगत दिवस जिला एवं सत्र न्यायालय दंतेवाड़ा, किशोर न्याय बोर्ड दंतेवाड़ा, सुकमा, बचेली, बीजापुर के व्यवहार न्यायालय में तथा तीनों राजस्व जिला दंतेवाड़ा, सुकमा एवं बीजापुर के राजस्व न्यायालयों में एक साथ नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया।

इस लोक अदालत के लिए कुल नौ खंडपीठ का गठन किया गया था। इसमें प्री-लिटिगेशन के बैंक, विद्युुत, नलजल, बीएसएनएल एवं राजस्व न्यायालयों को मिलाकर कुल 2684 रखे गये थे। जिनमें से कुल 1180 मामले निराकृत हुए। प्री-लिटिगेशन के कुल-10,16,557 राशि का अवार्ड पारित किया गया। इसी प्रकार न्यायालय में लंबित नियमित मामले कुल 664 रखे गये थे जिनमें से कुल-438 मामलों का निराकरण करते हुए कुल 58,21,700 राशि का एवार्ड पारित किया गया। इस लोक अदालत में कुल 3348 प्रकरण रखे गये थे। जिसमें से कुल 1618 प्रकरणों का निराकरण करते हुए कुल 68,38,257 का अवार्ड पारित किया गया। उक्त लोक अदालत वर्चुअल एवं भौतिक दोनों रूप में आयोजित कि गयी थी।

नेशनल लोक अदालत में मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण दंतेवाड़ा के खंडपीठ कमांक-1 के पीठासीन जिला एवं सत्र न्यायाधीशअब्दुल जाहिद कुरैशी के न्यायालय के मोटर दुर्घटना दावासिविल प्रकरणों में कुल 03 प्रकरणों का निराकरण करते हुए कुल राशि 11,62,000 रूक का अवार्ड पारित किया गया। प्रवीण कुमार प्रधान, प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश दंतेवाड़ा के न्यायालय से कुल-06 दावा प्रकरणों का निराकरण करते हुए 28,50, 000 का अवार्ड पारित किया गया।

दीपक कुमार देशलहरे, द्वितीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश दतेवाड़ा के न्यायालय से कुल 01 प्रकरण का निराकरण करते हुए 4,50,000- का अवार्ड पारित किया गया। शान्तनु कुमार देशलहरे, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश नक्सल कोर्ट दंतेवाडता के न्यायालय से कुल-01 प्रकरणों का निराकरण करते हुए 12,40,000-रूकका अवार्ड पारित किया गया।

414 रेगुलर मामलों का निराकरण

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट दंतेवाडता, सुकमा, बीजापुर एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणीबचेली के द्वारा भी अधिक से अधिक मामले इस लोक अदालत में राजीनामा हेतु रखे गये और कुल- 414 रेगुलर मामलों का निराकरण किया गया। आगामी नेशनल लोक अदालत 13अगस्त 2022 को पुनः आयोजित की जायेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close