दंतेवाड़ा। आम जनता की सुविधा के लिए अब स्वास्थ्य विभाग को 24 घंटे पोस्टमार्र्टम करने के आदेश दिए गए हैं। लेकिन ये सुविधा अभी कुंआकोंडा, कटेकल्याण में शुरू नहीं हो पाई है। इन दोनों ब्लाक मुख्यालयों में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है पर यहां सुविधाओं की कमी है। इसकी वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

कुंआकोंडा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में न तो शव को रखने फ्रीजर है ना ही अस्पताल से आधा किलोमीटर दूर बने मर्च्यूरी में बिजली की सुविधा है। यहीं स्थित कटेकल्याण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की भी है। यहां भी अस्पताल से दूर मर्च्यूरी बनी हुई है, जहां बिजली की सुविधा नहीं है। जंगल के बीच बनी मर्च्यूरी के चारों तरफ जंगल बन गया है। यहां रात को पोस्टमार्टम करने की सुविधा कैसे मिलेगी।

अभी हाल ही में पोस्टमार्र्टम करने के दिशा निर्देश जारी किए गए है। इसमें अब रात को भी पोस्टमार्टम किया जा सकेगा। पहले सूर्य अस्त होने के बाद पोस्टमार्टम नहीं किया जाता था। नए आदेश से लोगों को राहत मिलेगी पर ये राहत कुआकोंडा, कटेकल्याण में विभागीय लापरवाही की वजह से नही मिल पा रही है। कुआकोंडा में शुक्रवार शाम को एक तीस वर्षीय युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इसके बाद स्वजनों को शाम छह बजे से सुबह आठ बजे तक शव को घर में रख कर रतजगा करना पड़ा। कंुआकोंडा के डाक्टरों ने जंगल में बने मर्च्यूरी में बिजली नहीं होने की बात कह पोस्टमार्टम नहीं किया।

दो फ्रीजर दो साल से धूल खा रहे

शवों को सुरक्षित रखने दो फ्रीजर के सिस्टम कुआकोंडा में दो साल से धूल खा रहें है। विभाग ने लाखों की खरीदी करने में देरी नही की पर अब इसको शुरू करवाने विभाग को इंजीनियर नही मिल रहें हैं। कुआकोंडा, कटेकल्याण दोनों ग्रामीण क्षेत्र हैं। दोनों जगह होने को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र वाली सुविधा यंहा उपलब्ध नही हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local