दंतेवाडा। स्कूल खुलने के पहले दिन क्लेक्टर ने भांसी के मासापारा स्कूल पहुंचकर बच्चों का हौसला बढ़ाया । मासापारा स्कूल को नक्सलियों ने तोड़ दिया था। समर्पित नक्सलियों ने इस स्कूल को बनाकर फिर से तैयार कर दिया है,जिन नक्सलियों ने स्कूल को तोड़ा था अब वहीं बच्चों की शिक्षा को लेकर गांव में जागरूक कर रहें है। स्कूल खुलने के प्रथम दिन यहां कलेक्टर ने बच्चों का स्कूल में अभविवादन किया, शिक्षा की महत्ता को भी बताया। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर दीपक सोनी, जिला शिक्षा अधिकारी राजेश कर्मा, एसडीएम प्रकाश भारद्वाज सहित डीएसपी देवांश राठौर नक्सल प्रभवित क्षेत्र भांसी के मासापारा पहुंचकर स्कूल कोविड-19 को लेकर विभिन्ना विंदुओं पर चर्चा की और बच्चों से भी चर्चा किए।

करीब 18 महीने बाद स्कूलों में फिर से रौनक आ गई। इस दौरान अलग-अलग क्लास के लिए अलग-अलग आदेश दंतेवाड़ा में जारी किए गए हैं। अभी पहली से पांचवीं, उच्च प्राथमिक शाला में सिर्फ आठवीं क्लास का संचालन करने की अनुमति दी गई है। वहीं दसवीं और 12वीं की क्लास भी संचालित होंगी। ये क्लास छठवीं, सातवीं, नौवीं, 11वीं की क्लास अभी नही लगेंगी।

दंतेवाड़ा जिले में 596 प्राथमिक स्कूल, 230 उच्च प्राथमिक स्कूल, 31 हाईस्कूल 28 हायरसेकंडरी स्कूल, कुल 885 स्कूल आज से खुल गए हैं। सभी जगह से स्कूलों के खोलने की सहमति मिल गई है। कुआकोंडा ब्लाक के प्रथमिक शाला, उच्च प्राथमिक शाला बैलाडीला प्राथमिक शाला विद्यानगर स्कूल के समिति से स्कूल खोलने की अनुमति प्रदान नहीं मिली है। गीदम ब्लाक के हाराम, दंतेवाड़ा ब्लाक के टेकनार में भी स्कूल खोलने की अनुमति नही मिली है। स्कूलों के साथ जिले में 77आश्रम भी आज से खुल गए,जिसमें 22 आठवीं क्लास तक के 36 स्कूल 10वी क्लास एवं 19 स्कूल 12वीं के आश्रम शाला भी खोल दिये गए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local