दंतेवाड़ा(नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में कोरोना वायरस के मद्देनजर सतर्कता बरती जा रही है। जांच और उपचार के लिए स्वास्थ्य अमले को अलर्ट कर दिया गया है। जिले में संदिग्ध मरीज पाए जाने पर उसे आइसोलेट करने जावंगा में रखा जाएगा। इसके लिए जावंगा के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का चयन विभाग ने किया है। वहां स्वास्थ्य अमला पूरी तैयारी के साथ संदिग्ध मरीजों को तय समय तक अपनी निगरानी में रखेगा। जब मरीज निगेटिव या स्वस्थ हो जाएगा, तभी उसे बाहर जाने की इजाजत मिलेगी। सीएचएमओ डॉ एसपीएस शांडिल्य ने बताया कि कोरोना वायरस पीड़ित एक भी व्यक्ति अब तक जिले में नहीं मिला है। विदेश भ्रमण से लौटे कुछ लोगों के लक्षण और सैंपल निगेटिव पाए गए हैं। बावजूद स्वास्थ्य विभाग बचाव के लिए पूरी तैयारी और एहतियात बरत रहा है।

-----

जेल बंदियों से मुलाकात पर रोक

जिला जेल में बंदियों से मुलाकात करनी है तो अभी इंतजार करना होगा। कम से कम एक सप्ताह अर्थात 31 मार्च तक किसी भी बंदी से मुलाकात नहीं हो पाएगी। चाहे मुलाकाती परिजन हो या अधिवक्ता, सभी के लिए 31 मार्च तक बंदियों से मुलाकात पर रोक लगा दी गई है। ऐसा जेल में परिरूद्ध बंदियों को कोरोना वायरस से बचाने के लिए किया गया है। इतना ही नहीं जेल में प्रवेश से पहले सभी अधिकारी-कर्मचारी तथा बंदियों को पूरी तरह सैनिटाइजिंग किया जा रहा है। जिला जेल में अभी 676 बंदी-कैदी परिरूद्ध हैं।

-----

जेल प्रशासन पूरी तरह सतर्क

जेल अधीक्षक एसएस सोरी ने बताया कि कोरोना वायरस को लेकर जेल प्रशासन पूरी तरह सजग और सतर्क है। सुबह-शाम बंदियों के स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली जा रही है और बैरक और परिसर को पूरी तरह स्वच्छ रखा गया है। बीमार बंदियों के उपचार के साथ कोरोना वायरस के संदिग्ध बंदियों के लिए अलग वार्ड भी बनाए गए हैं। पेशी के बाद अदालत से वापसी पर पूरी तरह सैनिटाइजिंग के बाद ही जेल में प्रवेश दिया जा रहा है। कर्मचारी-अधिकारी मास्क लगाकर काम कर रहे हैं। बंदियों को भी मास्क और सैनिटाइजर उपलब्ध कराए गए हैं। दीवार और फर्श की सफाई व चूना से पुताई करवाई गई है। परिसर में पानी की पर्याप्त व्यवस्था है।

Posted By: Nai Dunia News Network