दंतेवाड़ा। (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

108 एंबुलेंस कर्मियों के लिए मरीज की जान बचाना और उन्हें जल्द बेहतर उपचार के लिए हॉस्पिटल पहुंचाना प्राथमिकता में है। इसका उदाहरण मंगलवार को मोलसनार में देखने को मिला, जहां दुर्गम और पहुंचविहीन मार्ग की चुनौती को दूरकर एंबुलेंस टीम ने घायल अधेड़ की जान बचाई। ईएमटी प्रियंका साहू ने बताया कि काल सेंटर से सूचना मिली थी कि मोलसनार निवासी बुधराम 50 अपने चार साथियों के साथ मछली पकड़ने गए थे और चोट लगने पर घायल हो गए हैं। सूचना मिलते ही घटना स्थल के लिए रवाना हुए। नजदीक पहुंचने पर पता चला कि आगे का 500 मीटर का रास्ता दुर्गम और एंबुलेंस के लिए पहुंचविहीन है। घायल को त्वरित चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने ईमटी टीम पैदल ही स्पाइन बोर्ड (स्ट्रेचर) लेकर मरीज को लेने पहुंची। घायल बुधराम के कमर में फ्रैक्चर होने के साथ पैर में भी चोट आई थी। वह चलने में असमर्थ थे। ऐसे में जंगल- झाड़ी और नाले को पार कर स्ट्रेचर की मदद से बुधराम को एंबुलेंस तक लेकर आए। घायल की गंभीर स्थिति को देखते डॉक्टर के सलाह अनुसार उनका इलाज करते जिला अस्पताल दंतेवाड़ा में एडमिट किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस