दंतेवाड़ा। अरनपुर थाना क्षेत्र में नक्सलियों ने एक बार फिर पुलिस के खिलाफ अपना आक्रोश व्यक्त करते हुए ग्रामीण को अपना निशाना बनाया है और उसे जान से मार कर शव फंेक दिया। दरअसल, मृतक मोहन भास्कर करीब 4 महीनों से पुलिस समर्थक के रूप में कार्य कर रहा था। वह नीलावाया गांव का रहने वाला था। मृतक भास्कर नवीन पुलिस केम्प में रहकर सरकार की योजनाओं को ग्रामीणों तक पहुंचाता था और उन्हें जागरूक करता था। मृतक द्वारा पुलिस की संगती नक्सलियों को रास नहीं आई और उन्होंने शुक्रवार की देर शाम केम्प वापसी के दौरान मोहन भास्कर को जान से मार कर उसका शव अरबे चौक में फेंक दिया। पुलिस घटनास्थल के लिए रवाना हो चुकी है। इस मामले की पुष्टि दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने की है।

दूसरी तरफ दंतेवाड़ा क्षेत्र से जुड़ी एक गलत खबर सोशल मीडिया पर वायरल होने से भी जिले की पुलिस परेशान रही। पुलिस ने इस संबंध में स्पष्टीकरण भी जारी किया है। जिला पुलिस द्वारा जारी की गई सूचना में बताया गया है कि कुछ वाट्सअप ग्रुपों में दंतेवाड़ा जिले में धनीकरका पक्की सड़क में आईईडी ब्लास्ट होने की तस्वीर पोस्ट की गई है जो किसी पुरानी घटना की फोटो है।

31 जनवरी को दंतेवाड़ा जिले में किसी भी मुख्य मार्गो में किसी भी पक्की सड़क पर कोई आईईडी ब्लास्ट की न कोई घटना हुई और न किसी वरिष्ठ अधिकारी के काफिले को निशाना बनाया गया। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव -2020 की द्वितीय चरण का मतदान बस्तर संभाग के समस्त जिलों के कुल 11 विकास खंडों में 1249 मतदान केंद्रों सुरक्षित और व्यवस्थित तरीके से सम्पन्न् हो चुका है।

इसमें वहां तैनात सुरक्षा बलों की बड़ी भूमिका रही। बस्तर में अशांति पैदा करने के लिए कुछ तंत्र इस तरह की फर्जी सूचनाएं फैला रहे हैं, जिनसे सतर्क रहने की अपील भी पुलिस ने आम लोगों से की है। अब 3 फरवरी को यहां तृतीय चरण के चुनाव के लिए मतदान होगा, जिसके लिए सुरक्षा व्यवस्था की तैयारी की जा रही है।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket