दंतेवाड़ा। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिले में अतिथि शिक्षकों का भविष्य अभी भी संशय में है। पिछले सत्र का पांच माह का मानदेय बकाया है। वहीं नए सत्र में भी पढ़ाने की अनुमति के लिए वे अधिकारी और जनप्रतिनिधियों के फेरे लगा रहे हैं। इस बीच एक साथी मौत के बाद उसके घर की आर्थिक स्थिति और बिगड़ गई। जिसे सहायता अब तक प्रशासन से नही मिली है। उस परिवार को सबल देने के लिए जिले के अतिथि शिक्षकों ने आपस में चंदा कर पांच माह के मानदेय की राशि 27 हजार 800 रुपए सौंपा। रविवार को अतिथि शिक्षक कुआकोंडा ब्लॉक के जबेली पहुंचे। जहां अतिथि शिक्षक स्व.देवाराम के बड़े भाई लिंगाराम मंडावी और परिजन से मिलकर राशि सौंपी। परिजनों ने बताया कि करीब एक माह पहले वेतन लेने के लिए दंतेवाड़ा गया था। वहां से शाम को लौटा और खाना खाकर सोया तो दूसरे दिन उठा नहीं। ज्ञात हो कि जिले के अंदरूनी स्कूलों में अल्प मानदेय पर 241 अतिथि शिक्षक सेवाएं दे रहे थे जिन्हें जिला खनिज न्यास निधि से भुगतान किया जाता था लेकिन नई सरकार आने के बाद राशि में कटौती करने से नए शिक्षा सत्र में सेवा नहीं ली जा रही है।