योगेंद्र ठाकुर, दंतेवाड़ा। Dantewada News: जिले के धुर नक्सल प्रभावित इलाकों में फोर्स के पहुंचने का असर दिखने लगा है। कल तक जो ग्रामीण नक्सलियों के इशारों पर दहशत के चलते फोर्स का विरोध करते रहे हैं। फोर्स को अपना दुश्मन मानते रहे हैं। आज उन्हें अपना सच्चा हितैषी मानने लगे हैं। फोर्स के गांवों में पहुंचने पर घरों में दुबक जाने वाले ग्रामीण अब उनके करीब आकर अपना दुख-दर्द बांट रहे हैं। महिला पुलिस अफसरों और कर्मियों से तो ग्रामीण महिलाएं अपनी स्वास्थ्यगत निजी समस्याएं तक बता रही हैं। वहीं दूसरी ओर फोर्स भी उन्हें अच्छी सेहत और राशन देने की जिम्मेदारी निभा रही है।

हाल ही में फोर्स ने अरनपुर-जगरगुंडा मार्ग के कमारगुड़ा में नया कैंप खोला है। यह इलाका अब तक नक्सलियों के कब्जे में रहा है। महिला पुलिस अफसर वहां पहुंचीं तो गांव की महिलाएं भी बेझिझक उनके पास आ गईं। भाषा को लेकर थोड़ी दिक्कत भी आई, लेकिन शब्दों के साथ आंखों के भावों ने मिलकर जो बयां किया, वह महिला पुलिस अफसरों को सबकुछ समझा गया। कैंप खुलने से ग्रामीणों में अब यह उम्मीद जागी है कि उनके गांव में भी सड़क, स्कूल, अस्पताल आदि होंगे।

नक्सल मोर्चे पर तैनात फोर्स सुरक्षा, विश्वास और विकास के मंत्र पर काम कर रही है। दंतेवाड़ा में पिछले दो साल में नौ नए पुलिस कैंप खुल चुके हैं। इस दौरान फोर्स को ग्रामीणों का विरोध भी सहना पड़ा है। माना जाता है कि ग्रामीण नक्सलियों के इशारे पर विरोध करते हैं। पुलिस के मुताबिक कैंप खुलने से ग्रामीणों को अपनी गलती का अहसास हो रहा है। हाल ही में सुकमा जिले के कमारगुड़ा (अरनपुर-जगरगुंडा मार्ग) में कैंप खोला गया है। फोर्स यहां के ग्रामीणों के साथ मेलजोल बढ़ाकर उन्हें रोजमर्रा की जरूरतों का सामान उपलब्ध करा रही है।

कमारगुड़ा कैंप में जवानों के साथ महिला डीएसपी शिल्पा साहू व आशारानी पहुंचीं तो ग्रामीण महिलाएं उनके पास पहुंच गईं। सड़क, पानी, बिजली, राशन, अस्पताल, स्कूल, आश्रम आदि की मांग करने लगीं। महिला अफसरों ने दुभाषिए के जरिए उनकी पीड़ा समझी और बात उच्चाधिकारियों तक पहुंचाई। महिलाओं ने अपनी स्वास्थ्यगत दिक्कतें भी बताईं। महिला अफसरों ने कैंप में ही उनका प्राथमिक उपचार कराया। इस दौरान ग्रामीण महिलाओं के चेहरे पर कृतज्ञता का भाव साफ नजर आता रहा।

वर्जन

ग्रामीणों की बातें प्रशासन तक पहुंचाई गई हैं। जल्द ही पीडीएस दुकान के लिए भवन तैयार हो जाएगा। सुकमा कलेक्टर ने भवन के लिए स्वीकृति दी है। अभी दंतेवाड़ा से राशन ले जाकर कैंप के करीब अस्थाई दुकान से बांटा जा रहा है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने का भी प्रस्ताव है।

-डा. अभिषेक पल्लव, एसपी, दंतेवाड़ा

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस