सुकमा, दंतेवाड़ा। नईदुनिया प्रतिनिधि। नक्‍सलियों के साथ मुठभेड़ में एक जवान के शहीद होने की खबर सामने आ रही है। मुठभेड़ में एक जवान घायल हुआ है। इसे रायपुर भेजा गया है।

प्रारंभिक जानकारी के अनुसार मुठभेड़ सुकमा क्षेत्र के पालोड़ी के पास हुई है। विस्‍तृत विवरण की प्रतीक्षा की जा रही है। बताया जा रहा है कि किस्‍टाराम के पालाेड़ी की तरफ कोबरा 208 बटालियन के जवान सर्च ऑपरेशन के लिए निकले थे। इसी दौरान नक्‍सलियों से जवानों की मुठभेड़ हो गई। इस दौरान दो जवान घायल हो गए जिनमें से एक जवान बाद में शहीद हो गया। इस मामले में अभी आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है।

बताया जाता है कि जवान कनई माझी और इंद्रजीत सिंह इस हमले में घायल हुए। इंद्रजीत को सीने में गोली लगी है कि जबकि कनई माझी की हालत गंभीर बताई गई थी। घायल जवान को हेलिकॉप्‍टर से रायपुर रेफर किया गया। सुकमा के पुलिस अधीक्षक शलभ सिंहा ने इस घटना की पुष्टि की है।

दूसरी ओर दंतेवाड़ा जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र खुले नए पुलिस कैंप पोटाली के पास एक क्षतिग्रस्‍त आश्रम के पास डेढ़ किलो वजनी बम मिला। जिसे जवानों ने बरामद कर डिफ्यूज कर दिया।

क्षतिग्रस्‍त आश्रम में नक्‍सलियों ने बम प्‍लांट किया था

इस संबंध में प्राप्‍त जानकारी के मुताबिक पोटाली गांव के पुजारी पारा स्थित एक क्षतिग्रस्‍त आश्रम में नक्‍सलियों ने बम प्‍लांट किया था। जिसे सर्चिंग पर निकले जवानों ने देखा और सावधानी से निकालकर वही डिफ्यूज कर दिया।

जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए नक्‍सलिया ने लगाया था बम

बताया जा रहा है कि यह प्रेशर बम करीब डेढ़ किलो वजनी था। जिसे जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए नक्‍सलिया ने लगाया था। ज्ञात हो इलाका कभी नक्‍सलियों का आधार क्षेत्र था।

नक्‍सली पीछे हटे हैं लेकिन दिखा रहे अपना प्रभाव

फोर्स के दबाव से लगातार नक्‍सली पीछे हटे लेकिन उनका प्रभाव अभी है। विरोध के बावजूद पोटाली कैंप खुलने से बौखलाए नक्‍सली ऐसी हरकते कैंप और गांव के आसपास कर रहे हैं।

नक्सलियों से मुठभेड़ में घायल जवान शहीद

रायपुर। बीजापुर में मुठभेड़ के दौरान घायल एक जवान शहीद हो गया। मंगलवार को रायपुर के निजी अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। शहीद जवान अजीत कुमार सिंह राजस्थान के अलवर जिले की बेहरोर तहसील के ग्राम गंदला के निवासी थे। आंबेडकर अस्पताल में पोस्टपार्टम के बाद परिजन शहीद जवान का शव लेकर रवाना हो गए हैं।

10 फरवरी को बीजापुर जिले के पामेड़-इरापल्ली क्षेत्र में नक्सलियों और जवानों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इसमें एक नक्सली मारा गया था। वहीं कोबरा बटालियन-204 के दो जवान उत्तर प्रदेश के बांदा निवासी विकास कुमार और छत्तीसगढ़ के पूर्णानंद साहू शहीद हो गए थे।

घायल छह जवानों को एयरलिफ्ट करा कर रायपुर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसमें हेड कांस्टेबल अजीत कुमार सिंह को रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर के साथ फेफड़े व शरीर के अन्य हिस्से में गहरी चोटें आई थीं। सप्ताहभर चले इलाज के बाद अस्पताल में ही उन्होंने अंतिम सांस ली। इलाज के दौरान राजस्थान से परिजन रायपुर पहुंच चुके थे।

Posted By: Hemant Upadhyay