दंतेवाड़ा (नईदुनिया न्यूज)। एक तरफ शासन प्रशासन गांव-गांव तक सरकार की योजना पहुचे इसके लिए गांव-गांव तक पक्की सड़क का बनवा रही है।दूसरी तरफ नक्सली जिस मार्ग में सिर्फ कभी-कभी एंबुलेंस मरीजों को लेने जाती है, ऐसी सड़कों को निशाना बना रहे हैं। दंतेवाड़ा जिले के कटेकल्याण ब्लाक के परचेली से कोरोपाल जाने वाली सड़क को नक्सलियों ने कई जगह से काट दिया है। इससे कोरोपाल, परचेली पटेलपारा के सैकड़ों परिवारों को बीते एक हफ्ते से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। परेशानी उठा ले रहें है पर नक्सलियों द्वारा खोदे गए गड्ढों को कोई भरने की हिम्मत नही जुटा नही पा रहा है।

कोरोपाल जाने वाले रास्ते में प्रधानमंत्री सड़क की स्वीकृति चार साल पहले मिली थी पर सड़क निर्माण के शुरवात में ही नक्सलियों ने सड़क निर्माण में लगी एक ट्रक में आगजनी कर दी थी।आगजनी के बाद निर्माण एजेंसी ने दुबारा काम शुरू नही करवा पाई। नक्सलियों ने सप्ताह भर पहले कोरोपाल के आगे सड़क को चार से पांच जगह से काट दिया है जिससे अब कोरोपाल तक एंबुलेंस भी नही पहुच पाएगी।कोरोपाल दरभा ब्लाक से लगा हुआ कटेकल्याण विकासखंड का गांव है।कोरोपाल सड़क बन जाने से दो सौ से अधिक परिवारों को गांव में ही सरकारी राशन सहित शासन की दूसरी योजनाओं का लाभ भी मिलता।

अभी कोरोपाल के ग्रामीण करीब 12 किलोमीटर पैदल राशन लेने कतेकल्याण आते हैं।गांव में यदि कोई बीमार हुआ तो कांवड़ में ही मरीज को ढोना पड़ता है। दंतेवाड़ा के ऐसे ही कई गांवों की तस्वीर बीते दो सालों में बदली है। कटेकल्याण ब्लाक के ही चिकपाल, तेलम, टेटम, गुड़से गांवों के लोग भी सड़क खोदने का खामियाजा भुगतते थे पर अब इन गांवों की परस्थित बदल गई है। अब इन गांवों तक शासन की योजना पहुंचने लगी है। कोरोपाल के ग्रामीण नक्सली दहशत की वजह से सड़क की मांग तो नही कर रहें है पर गांव में अस्पताल और दूसरी सुविधाओं की मांग जरूर कर रहें हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local