योगेंद्र ठाकुर, दंतेवाड़ा। नक्सली संगठन अपने सदस्यों को विवाह की अनुमति तो देता है लेकिन बच्चा पैदा करने की नहीं। विवाह से पहले ही पुरूष की नसबंदी कराने आंध्रप्रदेश भेज देते हैं। डाक्टरी प्रमाण पत्र के बाद ही विवाह होता है। यह खुलासा गुरुवार को समर्पण के बाद पांच लाख रूपये के इनामी नक्सली गंगू ने नईदुनिया से चर्चा के दौरान कही। उसने कहा कि बच्चे की चाह और खुद की जिंदगी बचाने पुलिस में समर्पण का निर्णय लिया। अब गांव-घर में रहकर परिवार के साथ जिंदगी जीना चाहता है।

गुरुवार को समर्पण करने वाले भैरमगढ़ एरिया कमेटी सदस्य और कमांडर गंगू उर्फ लखन ने बताया कि 1997 में वह बाल सदस्य के रूप में नक्सली संगठन में भर्ती हुआ। उसकी कार्यशैली को देते लीडर्स जिम्मेदारी बढ़ाते रहे। वर्ष 2009 में संगठन की ही एक महिला साथी से प्रेम हुआ तो सीनियरों को विवाह करने इच्छा जाहिर की, जिस पर लीडरों ने पहले मना कर दिया। बाद में इस बात पर राजी हुए कि वह बच्चा पैदा नहीं करेगा औेर नसबंदी के आंध्रप्रदेश भेज दिया। वहां से डाक्टर का प्रमाण पत्र लाने के बाद विवाह हुआ। तब से पत्नी के साथ रह रहा है पर बच्चे के सुख से वंचित है।

बीमार पत्नी का नहीं कराया इलाज

समर्पित नक्सली गंगू उर्फ लखन कुहराम ने बताया कि विवाह के कुछ साल बाद पत्नी बीमार हो गई तो उसे गांव में रहकर संगठन का काम करने कहा गया। गांव आने के बाद तबियत ज्यादा खराब हुई तो लीडर इलाज नहीं कराए। उसका हालचाल जानने गांव पर जाने या किसी के मोबाइल पर बात करने पर मुखबिरी का आरोप लगाते निगरानी शुरू कर दी। गंगू के मुताबिक लीडरों ने उसकी हत्या का भी षड़यंत्र रचा है। इसकी जानकारी के बाद वह जंगल से बाहर निकलने का मौका ढूंढता रहा।

40 किमी पैदल चलकर किया रैस्क्यू

एसपी डा अभिषेक पल्लव ने बताया कि गंगू नक्सलियों से पीड़ित था और इस बीच समर्पित नक्सलियों से संपर्क कर लोन वर्राटू अभियान में समर्पण की इच्छा जताई। इसकी जानकारी के बाद पुलिस द्वारा उसे 40 किमी जंगल में पैदल चलकर रैस्क्यू किया गया। नक्सलियों की निगरानी में गंगू के रहने से पुलिस पर हमला और गंगू की मौत की भी आशंका थी। इसलिए जवान ग्रामीणों के वेष में जंगल के भीतर घुसे और उसे सुरक्षति बाहर निकाला। एसपी ने कहा है कि यदि कोई और पीड़ित लोन वर्राटू अभियान का लाभ लेने पुलिस को खबर भिजवाता है तो उसकी भी मदद की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags