दंतेवाड़ा, नईदुनिया प्रतिनिधि। इन दिनों दंतेवाड़ा वन अमला एक्शन मोड में नजर आ रहा है। विशेष अभियान के तहत गीदम रेंज में दबिश देकर दो दिनों में लकड़ी तस्करों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की गई है। गुटोली के बाद बीती रात हीरानार मोड़ पर एक वाहन से सागौन की बल्लियां जब्त की गई। इसका बाजार मूल्य एक लाख बताया जा रहा है जबकि गुटोली में तीन लाख रूपये का अर्धनिर्मित फर्नीचर और लकडिय़ां बरामद की थी।

जानकारी के मुताबिक शुक्रवार रात वन विभाग की टीम गश्ती पर थी। इस दौरान मुखबिर ने सूचना दी कि एक पिकअप वाहन में लकड़ी गोदाम की ओर ले जा रहे हैं जिसकी कीमत लाखों रूपये की है। इसके बाद टीम सक्रिय होकर हीरानार गांव के पास नाकेबंदी करते पिकअप वाहन सीजी 18 जी 2288 को रोका।

तलाशी में इस वाहन से 32 नग सागौन की बल्लियां पाई गई। अमले ने वाहन के साथ मौजूद दो आरोपियों विकास देवांगन और झूमरलाल यादव को भी मौके से पकड़ा है। गीदम रेंजर सतीश गुरला ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर कार्रवाई की गई है।

अभी मामला पंजीबद्ध कर पकड़े गए दोनों आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। जब्त सागौन की कीमत का आंकलन किया जा रहा है। वाहन राजसात करने की कार्रवाई भी की जाएगी। ज्ञात हो कि पिछले दो दिन में लकड़ी तस्करों के खिलाफ गीदम रेंज में दो बड़ी कार्रवाई हुई जबकि जिले के दंतेवाड़ा और बचेली रेंज में भी बड़ी मात्रा में अवैध लकडी और फर्नीचर का कारोबार हो रहा है।

इसका खुलासा मीडिया भी करती रही है। बावजूद छिटपुट कार्रवाई के बचेली- दंतेवाड़ा रेंज में कोई दबिश नहीं दी जा रही है। बचेली के बंगाली कैंप और जिला मुख्यालय के करीबी गांवों के कई मकानों में फर्नीचर तैयार कर नगर तक पहुंचाया जाता है।