दंतेवाड़ा। जिले के पालनार साप्ताहिक बाजार में महिलाओं ने शराब बेचने का विरोध किया है। महिलाओं ने पूरे बाजार को ही बंद करवा कर जगरगुंडा मार्ग जाम कर दिया। महिलाओं को कहना है कि पूर्ण शराब बंद हो या सभी को शराब बेचने की छूट दी जाए। बता दें इस दौरान करीब 300 से अधिक महिलाएं जगरगुंडा मार्ग पर बैठी रहीं। वहीं इस मामलें को शांत करवाने औऱ महिलाओं को समझाइश देने जिला पंचायत अध्यक्ष तूलिका कर्मा और सोनी सोढ़ी पालनार पहुंचीं।

जिला पंचायत अध्यक्ष ने शांत करवाया मामला

महिलाओं के बढ़ते विवाद के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष तूलिका कर्मा, सोनी सोढ़ी पालनार पहुंचीं और महिलाओं को शांत करवाया। इस मामले में तूलिका कर्मा ने कहा कि इस विवाद को पूर्ण विराम देने के लिए सोमवार को पालनार में सभी पंच, सरपंच, जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्य, आदिवासी समाज के प्रमुख बैठकर विवाद को सुलझाएंगे। वहीं सोनी सोढ़ी ने कहा कि आदिवासी महिलाएं आपस में लड़ रही हैं, ये ठीक नहीं है। सोनी ने कहा कि इस बैठक में सभी जन प्रतिनिधियों की उपस्थित अनिवार्य रूप से होनी चाहिए।

इस मामले को लेकर पालनार की महिलाओं का कहना है कि किरंदुल साप्ताहिक बाजार में उनके साथ वहां की महिलाओं ने शराब किरंदुल लाकर बेचने को लेकर उन पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस वजह से वे भी अपने गांव की साप्ताहिक बाजार में दूसरे गांव की महिलाओं को शराब बेचने नही देंगी। वहीं गोंगपाल, डोरीरास की महिलाओं ने कहा, हमारे साथ पिछले हफ्ते पालनार बाजार में लूट की भरपाई की जाए। सभी साप्ताहिक बाजार में सभी गांव वालों को स्वतंत्र रूप से व्यापार करने दिया जाए।

विरोध में सड़क पर उतरीं तीन गांव की महिलाएं

बता दें कि पिछले शुक्रवार को हुए विवाद के बाद 11 नवंबर को सुबह गोंगपाल, डोरीरास, हड़मामुंडा गांव की महिलाओं ने सुबह 4 बजे ही नाकाबंदी कर दी थी। सुबह साढ़े 6 बजे कुआकोंडा थाने से पहुंचे जवानों ने चक्का जाम तो खुलवा दिया पर इसके बाद सैकड़ों की भीड़ पालनार बाजार में पहुंच शुक्रवार को पालनार में लगने वाली साप्ताहिक बाजार को बंद करवा दिया। गौरतलब है कि दंतेवाड़ा जिले में सभी साप्ताहिक बाजारों में खुलेतौर पर देशी शराब की बिक्री होती है। किरन्दुल, बचेली, नकुलनार, पालनार, मोखपाल, दंतेवाड़ा जैसे सभी बाजारों में देशी शराब की बिक्री होती है।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close