धमतरी। समर्थन मूल्य की धान खरीदी बंद हुए चार माह पूरे हो गए हैं, लेकिन अब तक एक भी केंद्र से पूरा धान का उठाव नहीं हो पाया है। जिले के 89 केंद्रों में 74490 क्विंटल धान खुले आसमान के नीचे शेष पड़ा है।

समय पर धान का उठाव नहीं होने से अब बारिश का खतरा मंडराने लगा है। मानसून आने के बाद धान के भीगकर सडने का खतरा है।

धमतरी जिले के 89 उपार्जन केंद्रों में एक लाख 9174 किसानों से 42 लाख 77495 क्विंटल धान समर्थन मूल्य पर खरीदा गया था। धान खरीदी बंद होने के चार माह बाद तक धान का पूरा उठाव नहीं हो पाया है। 42 लाख 3104 क्विंटल धान का उठाव हुआ है, जबकि जिले के सभी 89 केंद्रों में अभी भी 74390 क्विंटल धान केंद्रों में पड़ा हुआ है।

शेष धान को केंद्रों में तिरपाल व पालीथिन से ढककर रखा गया है, लेकिन इस धान पर अब बारिश का खतरा मंडराने लगा है। क्योंकि बारिश का मौसम शुरू होने में कुछ ही दिन शेष है।

यदि बारिश शुरू होते तक धान का उठाव नहीं हो पाया तो धान पूरी तरह से भीग जाएंगे। ऐसे में धान की सड़ने की आशंका है। धान भीगने व सड़ने पर भरपाई समितियों को करनी पड़ेगी, क्योंकि धान जब तक उपार्जन केंद्र में हैं, तब तक धान की सुरक्षा समिति की जिम्मेदारी होती है। ऐसे में धान सड़ने पर समितियों को भारी नुकसान होने की आशंका है।

धान का रहता है बीमा

जिला खाद्य अधिकारी बीके कोर्राम ने बताया कि जिलेभर के सभी 89 उपार्जन केंद्रों में पड़े शेष धान के लिए डीओ जारी हो चुका है। बारिश से पहले ही धान का उठाव कर लिया जाएगा। धान खरीदी शुरू होते ही उपार्जन केंद्रों में रखे धान का बीमा हो जाता है, क्योंकि केंद्रों में आगजनी, चोरी व अन्य कारणों से नुकसान होने पर समितियों को बीमा का लाभ मिल जाएगा।

वह बीमा कंपनी पर क्लेम कर सकते हैं। यदि बारिश में धान का उठाव नहीं होने पर धान के सड़ने की स्थिति में समितियों को नुकसान होने पर वे बीमा कंपनी से क्लेम कर सकते हैं।

साढ़े 30 लाख क्विंटल चावल जमा

खाद्य निरीक्षक नरेश पिपरे ने बताया कि जिले में मीलिंग जारी है। अब तक 3069154 क्विंटल चावल मिलरों ने कर लिया है। सेंट्रल नान में 431510 क्विंटल और राज्य नान में 409470 क्विंटल मिलरों ने अरवा चावल जमा किया है। एफसीआई में 22 लाख 28162 क्विंटल चावल जमा किया गया है।

अब 74390 क्विंटल धान का उठाव कर मीलिंग करना शेष है। डीओ जारी कर मिलरों को शीघ्र उठाव करने का निर्देश दिया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags