धमतरी। अजजा आयोग ने धमतरी कलेक्टर को पत्र भेजकर चंद्रसूर सरपंच के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करने कहा है, क्योंकि उन्होंने आरक्षित वर्ग से शासकीय योजनाओं का लाभ लेने के लिए शासन के साथ छलावा किया है। छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग ने धमतरी कलेक्टर को पत्र लिखा है, जिसमें उल्लेख किया गया है कि जिला धमतरी के मगरलोड ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत चंद्रसूर की सरपंच तुलसी बाई नागरची अनुसूचित जनजाति महिला आरक्षित वर्ग से सरपंच पद पर पदस्थ हुई हैं।

जबकि महिला सरपंच की मूल जाति मंगिया है, जिसे उसने छिपाई है। छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग सचिव ने पत्र में बताया है कि आवेदिका डेरहिन साहू ग्राम चंद्रसूर ने इस संबंध में आयोग के पास शिकायत कर आवेदन दिया था। उनके आवेदन के आधार पर अजजा आयोग के अधिनियम 1995 के अध्याय तीन की धारा 10 की उपधारा क एवं ख के तहत पंजीयन किया गया है।

आवेदिका ने अवगत कराया कि अजजा संबंधी राष्ट्रपति नोटिफिकेशन जारी छह सितंबर 1950 के अनुसार मूल जाति मंगिया को छुपाकर तुलसी बाई नागरची, ग्राम पंचायत चंद्रसुर, विकासखंड मगरलोड, जिला धमतरी में अजजा महिला आरक्षित वर्ग से सरपंच पद पर पदस्थ हुई हैं। जबकि प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत आवास प्लस एप में प्रविष्ठ छूटे पात्र हितग्राही सूची वर्ष 2020-21 में गलत जानकारी देकर शासकीय योजना का लाभ पाने की कोशिश की है। इस संबंध में आयोग में तुलसी बाई को बुलाकर जवाब लिया गया।

उन्होंने अवगत कराया कि उनके पूर्वजों की जाति मंगिया है। उनका स्थाई व सत्यापित प्रमाण पत्र नहीं बन पाया है। सरपंच पद के लिए उनसे जाति प्रमाण पत्र की मांग नहीं की गई थी। पत्र में कहा गया है कि सरपंच के पास नागरची जाति का स्थाई प्रमाण पत्र नहीं है, जो संदेहास्पद है। इस मामले में समुचित जांच कर गलत पाये जाने पर सरपंच पद से बर्खास्त कर आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस