धमतरी। बिजली बिल बकाया बिजली बिल को लेकर विद्युत विभाग ने कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है। नगरीय निकाय क्षेत्रों में कुछ दिनों पूर्व बिजली काटने के बाद अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी विद्युत विभाग ग्राम पंचायत क्षेत्र में भी विद्युत कटौती कर रही है, जिससे ग्रामीणों को काफी परेशान होना पड़ रहा है। कई गांव में दिन ढलते ही गांव की गलियां अंधेरा छा जाता है। क्योंकि यहां स्ट्रीट लाइट बंद पड़ी है।

ग्राम पंचायतों द्वारा विद्युत बिल का भुगतान न किए जाने के कारण यह स्थिति बनी हुई है। सालों बाद विद्युत विभाग द्वारा बकायेदारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। इसका विपरीत असर आम जनता को भुगतना पड़ रहा है। सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र द्वारा विद्युत बिल का भुगतान न किए जाने के कारण यह कार्रवाई की जा रही है।

पिछले माह नगर निगम क्षेत्र में पहली बार शहर की स्ट्रीट लाइट को बकाया बिल के कारण बंद कर दिया गया था। इसी तरह धमतरी जिले के चारों ब्लाक के अधिकांश गांव में बकाया बिल को लेकर गांव की स्ट्रीट लाइट को बंद कर दिया गया है। इससे ग्रामीणों को देर शाम काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। धमतरी शहर से लगे ग्राम पंचायत श्यामतराई, भटगांव सहित अन्य ग्राम पंचायतों का एक सा हाल है। ग्रामीणों ने विद्युत व्यवस्था बहाल करने की मांग की है, ताकि आवाजाही में गांव वालों को किसी तरह की दिक्कतों का सामना न करना पड़े।

---

छत्तीसगढ़ की गलियां अंधेरे में डूबी, राज्य सरकार सुध ले : रंजना

विधायक रंजना डीपेंद्र साहू ने कहा कि नगरीय निकायों के बाद छत्तीसगढ़ के अधिकांश ग्राम पंचायतें और उनकी गलियां अंधेरे में डूबी हुई है। अफसोस इसके बावजूद छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल यूपी में जाकर चुनावी भाषणों में उजाले का सब्जबाग दिखा रहे हैं।

बिजली विभाग के भुगतान के पैसों में छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार दीगर राज्यों में चुनाव प्रचार कर रही है। बीते तीन सालों में राज्य में चलाई जा रही योजनाओं का हाल-बेहाल है। कोई भी उनकी योजनाएं धरातल पर सफल होते नहीं दिखती। किसानों के मामले में बिजली, खाद और धान खरीदी में असफल सीएम भूपेश बघेल पांच लाख बेरोजगारों को रोजगार नहीं दे पाए हैं।

सरकार ऐसी घोषणा करती है कि भोले-भाले छत्तीसगढ़ के गरीब-किसान उनके झांसे में आ जाते हैं। राज्य सरकार को छत्तीसगढ़ के अंधेरे में डूबे गांवों के बारे में सुध ली जानी चाहिए। हो सकता है कि नगरीय निकाय और ग्राम पंचायतों के बाद बहुत जल्द उन किसानों को बिजली कट कर दी जाए जो मोटर पंप के सहारे खेती कर रहे हैं, और जिन्हें सरकार मुफ्त मोटर पंप बिजली देने का दावा करते आ रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local