धमतरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

रविवार 10 फरवरी को यातायात पुलिस ने मिशन ग्राउंड में स्कूली वाहनों की फिटनेस जांच के लिए शिविर लगाया गया। शिविर में 33 स्कूली वाहन पहुंचे, उनकी सेहत जांची गई। खामियां मिलने पर जल्द से जल्द व्यवस्था दुरुस्त करने कहा गया।

धमतरी शहर में विभिन्न निजी विद्यालयों में बस की सुविधा शाला प्रबंधन द्वारा दी जाती है। स्कूली बसों में बच्चों के लिए सुविधाओं का होना आवश्यक है। कांच के पास जाली, आग बुझाने के उपकरण, स्पीड गवर्नर सहित अन्य सुविधाओं का होना बहुत जरूरी है। इसे लेकर समय-समय पर यातायात पुलिस और जिला परिवहन विभाग द्वारा कार्रवाई की जाती है। राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के अंतिम दिन रविवार 10 फरवरी को यातायात पुलिस ने मिशन ग्राउंड में स्कूली वाहनों की फिटनेस जांच के लिए शिविर का आयोजन किया। सभी स्कूली बसों की यहां पर बारी-बारी से पुलिस स्टाफ ने जांच की। फिटनेस जांच के बाद जो भी खामियां मिली उसे दुरुस्त करने बस संचालकों को सख्त हिदायत दी गई। इस दौरान काफी संख्या में पुलिस विभाग के अधिकारी-कर्मचारी और बस संचालक, ड्राइवर उपस्थित थे।

फिर लगेगा जांच शिविर

यातायात प्रभारी भावेश शेंडे ने बताया कि 30 वें राष्ट्रीय सड़क सड़क सुरक्षा सप्ताह के अंतिम दिन स्कूली बसों की फिटनेस जांच की गई। जांच के लिए 33 स्कूली वाहन पहुंचे थे, जिनकी बारीकी से जांच की गई। कुछ वाहनों में खामियां मिलीं, जिन्हें जल्द से जल्द दुरुस्त कराने कहा गया है। आने वाले दिनों में फिर से फिटनेस जांच शिविर का आयोजन होगा, जिसमें खामियां मिलने पर तुरंत कार्रवाई होगी।