धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

धमतरी जिले के नगरी विकासखंड के दुगली ग्राम पंचायत के आश्रित ग्राम बिरनपुर में 13 अक्टूबर 2020 को आगजनी की घटना में 15 निवासियों के झोपड़ियों को जला दिया गया था। इससे नाराज होकर वनवासी धमतरी शहर के गौशाला मैदान के पास धरनारत थे। धरना प्रदर्शन के बाद सीधे मुख्यमंत्री निवास तक पैदल मार्च करने की योजना थी। जिला प्रशासन के आग्रह पर उन्होंने पैदल मार्च स्थगित किया। प्रशासन ने तत्काल घटनास्थल का निरीक्षण कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए थे। तीन दिन के बाद भी जांच टीम घटना स्थल नहीं पहुंची जांच टीम के नहीं पहुंचने से परेशान वनवासी 29 अक्टूबर को सीटू के जिला सचिव समीर कुरैशी, अध्यक्ष मनीराम देवांगन के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचे।

यहां उन्होंने कलेक्टर, एसपी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। कार्रवाई नहीं करने पर उग्र प्रदर्शन की चेतावनी दी गई है। सीटू के धमतरी जिला सचिव समीर कुरैशी, जिला समिति सदस्य मनीराम देवांगन, महेश शांडिल्य और स्थानीय नेता तेजराम चक्रधारी ने 26-27 अक्टूबर 2020 को क्षेत्र का दौरा किया, पीड़ित परिवारों और अन्य ग्रामीणों से बातचीत की, घटनास्थल का दौरा किया और आवश्यक तथ्य, दस्तावेज और जानकारियां एकत्रित की। सदस्यों ने कहा कि घटना के बाद भी प्रशासन की टीम घटनास्थल का निरीक्षण करने अब तक नहीं पहुंची है। इससे वनवासियों में प्रशासन को लेकर नाराजगी देखी जा रही है। आगजनी जैसी जघन्य वारदात के 15 दिनों बाद भी हमलावर अपराधियों को गिरफ्तार नहीं किया गया है। इससे साबित होता है कि प्रशासन की अपराधियों के साथ खुली मिलीभगत है। बिरनपुर के वनवासी राकेश पात्रे, बिरपाल कोर्राम, चंदन कोर्राम, सुरेखा बाई कोर्राम, सुखबती परते ने बताया कि परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। यहां-वहां दूसरों के घर में आश्रय लेकर काम चला रहे हैं। यदि जल्दी व्यवस्थापन नहीं की जाती है तो सभी सीएम हाउस तक अपनी समस्या रखने पैदल मार्च करते हुए जाएंगे। कलेक्टर द्वारा इस घटना की जांच के निर्देश दिए जाने के बावजूद नगरी एसडीएम 20 किमी दूर दुगली तक नहीं पहुंच पाए हैं। जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंपने के बाद धमतरी में माकपा नेता समीर कुरैशी ने कहा है कि पीड़ितों ने न्याय मिलने के आश्वासन पर अपना धरना समाप्त किया है, लेकिन जरूरत पड़ने पर पीड़ित आदिवासी परिवार राजधानी रायपुर तक पदयात्रा करके मुख्यमंत्री के दरवाजे तक पहुंचकर न्याय की गुहार लगाएंगे।मामला न्यायालय के अधीननगरी एसडीएम सुनील कुमार शर्मा ने बताया नगरी विकासखंड के दुगली ग्राम पंचायत के आश्रित ग्राम बिरनपुर के रहवासियों का मामला यह न्यायालय के अधीन है। न्यायालय में प्रकिया चल रही है। लोगों का बयान हो चुका है। जांच बाकी है। वन विभाग और राजस्व विभाग की संयुक्त रिपोर्ट अब तक प्राप्त नहीं हुई है। रिपोर्ट प्राप्त होते ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस