धमतरी। विकास के नाम पर पृथ्वी, पानी और प्रकाश को विपरीत कर दिया गया है। वहीं चीन ने कूटनीति कर अपने विज्ञानियों के माध्यम से कोरोना वायरस फैला दिया है, जिससे पूरा देश परेशान है। कोरोना लोगों को एक दिव्य दृष्टि देने आई है, ताकि लोग प्रकृति से जुड़कर रहें। कोरोना से बचने लोग नियमों का पालन करें। शरीर के कई अंगों को बार-बार न छुएं। मल-मूत्र के बाद सफाई पर ध्यान दें। दूसरों के कपड़ों का उपयोग न करें। शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद तीन दिवसीय प्रवास पर 23 सितंबर को धमतरी पहुंचे। इस दौरान महालक्ष्मी ग्रीन्स में आयोजित कार्यक्रम में भक्तों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब देते हुए उन्होंने उक्त बातें कहीं।

धमतरी पहुंचने पर उनका काफिला महालक्ष्मी ग्रीन्स राधाकृष्ण भवन पहुंचा। यहां भक्तों ने फूलमाला और आरती लेकर उनका भव्य स्वागत किया। उनके साथ आचार्य झम्मन शास्त्री भी पहुंचे हैं। भक्तों के पूछे सवाल पर निश्चलानंद सरस्वती ने बताया कि देश में कोरोना की तीसरी लहर कम होंगे। कोरोना का उपचार जड़ी-बूटी पर भी हो सकता था, लेकिन अनुमति नहीं मिली। उन्होंने कहा कि जीवन में स्वस्थ रहना है तो शुद्ध शाकाहारी व खानपान पर विशेष ध्यान दें। धर्म के बिना अहितकर राजनीति एक क्षण भी नहीं टिक सकता। मौजूद भक्तों ने मानव धर्म, राजनीति व धर्म, कोरोना वैक्सीन समेत कई बिन्दुओं पर प्रश्न पूछे। महालक्ष्मी ग्रीन्स में तीन दिनों तक विविध कार्यक्रम आयोजित होंगे। 24 सितंबर को सुबह साढ़े 11 बजे विचार गोष्ठी, जिज्ञासु भक्तों को उनके स्वैच्छिक विषय के प्रश्नों का जवाब एवं मार्गदर्शन देंगे। शाम छह बजे हिंदू राष्ट्रसंघ की स्थापना व राष्ट्र रक्षा विषय पर प्रवचन तथा 25 सितंबर को संगठनात्मक मार्गदर्शन एवं दीक्षा का कार्यक्रम होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local