धमतरी Dhamtari Crime : कर्ज चुकाने के लिए जब गर्भवती बहू ने सास-ससुर को अपने गहने नहीं दिए, तब दोनों ने मिलकर बहू की गला दबाकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देने के चार दिन बाद पुलिस कार्रवाई के डर से आरोपित ससुर ने आत्महत्या कर ली। आरोपित सास को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

भखारा पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 25 जून को ग्राम सिलघट में गर्भवती जया निषाद पत्नी लिलेश्वर निषाद का शव उनके कमरे में संदिग्ध हालत में मिला था। घटना की सूचना पर भखारा पुलिस मौके पर पहुंची। जांच पड़ताल पश्चात शव का पोस्टमार्टम कराया और अंतिम संस्कार के लिए शव परिजनों को सौंप दिया।

शव को देखने के बाद पुलिस हत्या की आशंका जाहिर कर पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही थी। शार्ट पीएम रिपोर्ट में डॉक्टर ने मृतका के नौ माह के गर्भवती होने व दम घुटने से उनकी मृत्यु होने की पुष्टि की, तो पुलिस ने तत्काल अज्ञात आरोपितों के खिलाफ हत्या की धारा 302 व सबूत छिपाने की धारा 201 के तहत जुर्म दर्ज कर अपनी जांच शुरू की। पुलिस को मृतका की सास व ससुर पर संदेह हुआ।

पुलिस दोनों की गतिविधियों पर नजर रखते हुए अज्ञात आरोपित की पतासाजी कर रही थी। इस दौरान मृतका के ससुर रामचंद्र निषाद ने 28 व 29 जून की दरम्यानी रात आत्महत्या कर ली। इससे संदेह और गहरा गया। मृतका की सास अमृत बाई निषाद को पुलिस ने हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की, तो वह टूट गई और पूरी घटना की जानकारी पुलिस को बता दी।

फुलपेंट से गला दबाकर की हत्या

पुलिस का कहना है कि आरोपित अमृत बाई निषाद ने पुलिस को बताया कि पति रामचंद्र निषाद को आभास हो गया था कि पुलिस उसे पकड़ लेगी। गिरफ्तारी के डर व आत्मग्लानि से उसने आत्महत्या की होगी। उनके बेटे लिलेश्वर का विवाह एक वर्ष पूर्व मृतका जया निषाद से हुआ था।

विवाह के समय समाज व आसपास के लोगों से उधार में रुपये लिए थे, जिसे चुकाने के लिए अपनी बहू जया निषाद से उसके सोने-चांदी के गहने की मांग की। लेकिन जया ने गहने देने से इंकार कर दिया। इससे आपसी विवाद शुरू हो गया। आरोपित मृतक रामचंद्र निषाद ने जया के मायके से 5000 रुपये मांगकर उधार चुकाया और उधारी होने पर 24 जून को जया से उनके गहने-जेवर या अन्य सामान बेचकर उधार की रकम चुकाने की बात कही। इसी बात को लेकर विवाद बढ़ गया।

जया नौ माह की गर्भवती थी, वह डिलवरी कराने अपनी मायके जाने की जिद करने लगी, जिस पर रामचंद्र निषाद ने उसे मायके जाने से मना किया। इसी दौरान विवाद के बीच आक्रोशित होकर सास व ससुर ने बहू जया के गला को फुलपेंट से दबाकर हत्या कर दी और ऑलमारी में रखे सोने का डोला माला, चांदी की करधन व बिछिया को निकाल कर छुपाकर रख दिया।

पुलिस ने जेवरात को जब्त कर आरोपित सास अमृत बाई निषाद को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस मामले की गुत्थी सुलझाने में थाना प्रभारी भखारा कोमल नेताम, उपनिरीक्षक महेश साहू, सहायक उपनिरीक्षक प्रकाश सोनी, प्रधान आरक्षक जगदीश सोनवानी, आरक्षक मनोज साहू, गजेंद्र टंडन एवं महिला आरक्षक शिवा यादव की भूमिका रही।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020