धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में समर्थन मूल्य में धान खरीदी तेजी से चल रही है। ट्रक यूनियन के विरोध और राइस मिलरों द्वारा उठाव में रूचि नहीं लेने के कारण खरीदी केन्द्रों में धान जाम होने की स्थिति है। मिलर स्वयं की ट्रकों से परिवहन करवा रहे हैं।

खाद्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक से 12 नवंबर तक कुल 14311 किसानों ने 404286 क्विंटल धान बेचा है। 17 राइस मिलरों ने 21160 क्विंटल धान का उठाव खरीदी केन्द्रों से किया है। खरीदी केन्द्रों में 383156 धान जाम पड़ा है। यही स्थिति रही तो कुछ ही दिन बाद कई खरीदी केंद्रों में मेगा जाम भी लग सकता है। पूर्व के सालों में इस तरह की स्थिति बन चुकी है। धान परिवहन के लिए ट्रकों में नया जीपीएस सिस्टम लगाने कहा गया है। इसका विरोध करते हुए ट्रक आनर्स एसोसिएशन ने मोर्चा खोल दिया है और परिवहन नहीं कर रहे हैं। धमतरी के दि ट्रक आनर्स एसोसिएशन में 600 ट्रकें है। एसोसिशन परिवहन में भाग नहीं ले रहा है, इसलिए परिवहन की रफ्तार धीमी है।


अधिक समय तक धान रखा तो सूखत का खतरा

सोसाइटियों में लंबे समय तक समर्थन मूल्य में खरीदा गया धान का रखा जाता है तो सूखत का खतरा है। किसानों से 17 प्रतिशत तक नमीयुक्त धान को खरीदा जा रहा है। वर्तमान में ठंड बढ़ी नहीं है। ऐसे रोजाना धान में सूखत आ रही है। तीन से चार में ही नमी के प्रतिशत में कमी दर्ज की जा रही है। इससे समितियों का हानि होने की आशंका है।


नया जीपीएस सिस्टम लगाने से आर्थिक भार

ट्रक ओनर्स अमरजीत सिंह खालसा, अभिषेक ठाकुर और रामअवतार यादव ने बताया कि पूर्व में स्वयं के व्यय से जीपीएस सिस्टम लगा चुके है। आज भी गाड़ियों में यह सिस्टम लगा हुआ है। अब पुन: नया जीपीएस सिस्टम लगाने के लिए दबाव बना रहा है। नया जीपीएस सिस्टम लगाने पर आठ हजार रुपये का खर्च आएगा। इसके अतिरिक्त सात हजार रुपये का प्रतिमाह रिचार्ज भी कराना होगा।


परिवहन तेज करने प्रयास

ट्रक आनर्स एसोसिशन के पदाधिकारियों से चर्चा कर उनकी परेशानियों एवं मांग को शासन तक पहुंचाया गया है। जिले में धान का परिवहन तेज करने प्रयास किया जा रहा है।

- सीआर जोशी, मार्कफेड धमतरी।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close