धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सोनेवारा सरपंच पर प्राणघातक हमला करने वाले आरोपित पंच ओमप्रकाश निषाद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि 23 सितंबर को मगरलोड ब्लाक के ग्राम सोनेवारा के सरपंच विद्याचरण नेताम 36 वर्ष पर उसी गांव के पंच ओमप्रकाश उर्फ मजनू निषाद ने कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। सरपंच गंभीर रूप से घायल हो गया। उसका धमतरी के अस्पताल में उपचार चल रहा है।

पुलिस ने बताया कि विद्याचरण नेताम का दो वर्ष पूर्व गांव की महिला पंच के साथ अवैध प्रेम संबंध था जो ओमप्रकाश की रिश्तेदार थी। इसकी जानकारी स्वजनों व ग्रामीणजनों को होने पर ग्रामीणों द्वारा ग्राम में बैठक कर समझाईश दी गई। ओमप्रकाश निषाद के स्वजनों से संपर्क नहीं करने की हिदायत देकर मामला शांत कराया गया था।

ओमप्रकाश निषाद इसके बाद से स्वयं को अपमानित महसूस कर रहा था। अंदर ही अंदर सरपंच विद्याचरण रंजीश रखता था। 23 सितंबर की शाम घर के आसपास सरपंच को टहलते देखकर उसे शंका हुई। जान से मारने की नीयत से कुल्हाड़ी से सरपंच विद्याचारण नेताम पर पीछे हमला कर दिया। 25 सितंबर को आरोपित ओमप्रकाश निषाद को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया।


19 बोरी खाद चोरी, तीन आरोपित पुलिस ने गिरफ्तार

पुलिस ने दुगली थाना क्षेत्र के ग्राम कौहाबाहरा के गोदाम से 19 बोरी खाद चोरी के आरोप में तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार 19 एवं 20 अगस्त के मध्य ग्राम कौहाबाहरा के बाजार चौक स्थित गोदाम में रखी पांच बोरी डीएपी खाद एवं 14 बोरी सूपर फोस्फट खाद कीमत 13220 रुपये को अज्ञात चोर चोरी कर ले गए थ। हीरासिंग मरकाम की रिपोर्ट पर पुलिस ने चोरी का प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया।

एसडीओपी नगरी मयंक रणसिंग के नेतृत्व मेंथाना प्रभारी एवं स्टाफ के द्वारा आसपास के तकनीकी साक्ष्यों एवं मूखबिर सूचना के आधार पर एवं संदिग्धों से पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान संदेही प्रेमशंकर उर्फ गणेश ध्रुव 25 वर्ष, डिगेश्वर उर्फ गोलू सेन 30 दोनों निवासी कौहाबाहरा और ओमप्रकाश उर्फ लोकनाथ मंडावी 22 वर्ष निवासी कोलियारी थाना दुगली को पकड़कर पूछताछ की।

तीनों टूट गए और अपराध स्वीकार किया। इनके कब्जे से दो बोरी खाद जब्त किया। खाद को पुराना थाना परिसर में फारेस्ट विभाग के बने मकान के कमरा में छिपा रखा था। 12 बोरी खाद को बेचकर तीनों ने पैसा को खर्च दिया। कार्रवाई में उप निरीक्षक रमेश साहू, सउनि डीएन सिन्हा, प्रआर राजेश चंद्राकर, आरक्षक घनश्याम साहू, मानक साहू का योगदान रहा।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close