धमतरी। लगभग दो साल बाद तहसील ध्रुव गोंड़ समाज का दो दिवसीय वार्षिक अधिवेशन का शुभारंभ गोशाला मैदान में हुआ। इस अधिवेशन में आदिवासी समाज ने रीति-नीति एवं आय व्यय पर चर्चा की। इसके साथ विभिन्न समाजिक प्रकरणों का निराकरण भी शुरू हुआ।

शुभारंभ मौके पर मुख्य अतिथि बतौर महासमुंद लोकसभा क्षेत्र के सांसद चुन्नीलाल साहू, विशिष्ट अतिथि के रूप धमतरी विधायक रंजना साहू उपस्थित थे। बूढ़ादेव के पूजा पश्चात तहसील अध्यक्ष जयपाल ठाकुर ने स्वागत भाषण दिया। जिसमें उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के कारण विगत दो वर्षो से अधिवेशन नही हो पाया था।

उन्होंने बताया कि अधिवेशन में समाज अपने परंपराओं पर एक तरह से शोध विचार करते है। हम प्रकृति के पुजारी हैं। हम सबकी पूजा करने वाले है। सर्व आदिवासी समाज के जिलाध्यक्ष ने कहा कि आदिवासी समाज अपनी परंपराओं के लिए जाने जाते हैं।

हमारे जिले में दो लाख 30 हजार आदिवासी निवासरत हैं। उन्होंने मंचस्थ नेताओं से क्रिमिलेयर, आरक्षण और संवैधानिक मुददों पर समर्थन मांगा। मुख्य अतिथि सांसद चुन्नीलाल साहू ने समाज को संबोधित करते हुए कहा कि देश की स्वतंत्रता के लिए आदिवासी समाज के पुराधाओं ने बड़ा योगदान दिया है लेकिन आज उनके योगदान को भुला दिया गया है। इतिहास में सही स्थान नहीं मिला।

देश व समाज को जो रास्ता पुरोधाओं ने दिखाया है आज उसी रास्ते पर समाज को आगे बढ़ना है। विधायक रंजना साहू ने कहा कि आदिवासी संस्कृति ही छत्तीसगढ़ की पहचान है। समाज ने बहुत संघर्ष किया है।

आरक्षण का अधिकार आदिवासी समाज का हक है लेकिन दुर्भाग्य है कि समाज को अपने अधिकारों के लिए लड़ना पड़ रहा है। हम सौभाग्यशाली है कि आदिवासी समाज के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने बलिदान देकर हमें आजाद कराया। उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज को उनके संवैधानिक अधिकार दिलाने के लिए वह हरसंभव प्रयास करेंगी।

इस अवसर पर नगरी जनपद अध्यक्ष दिनेश्वरी नेताम, महेन्द्र नेताम, अनिता यादव, नीलू यादव, उमेश साहू, उदय नेताम, ढालू राम ध्रुव, जयपाल मरकाम, राधेश्याम नेताम, लालसिंह चंद्रवंशी, गोपीचंद नेताम, श्यामलाल नेताम, गजानंद मरकाम, देवानंद नेताम, कमल नारायण ध्रुव, संतोष ध्रुव, मनसाय मंडावी, चंद्रकिरण नेताम, नंदा नेताम, सविता नेताम, तिजेंद्र कुंजाम, खिलेश नेताम, हरिशंकर मरकाम, वेदप्रकाश ध्रुव, संतोष कुंजाम, रामेश्वर मरकाम, हेमंत छैदेया, नरेश नेताम, हर्ष मरकाम सहित समस्त परिक्षेत्राध्यक्ष एवं मुड़ादार उपस्थित थे।

पांरपारिक नृत्य के साथ प्रारंभ हुए वार्षिक अधिवेशन में समाजसेवा के लिए अनेक विभूतियों का सम्मान किया गया।

---

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close