कुरुद। नगर पंचायत कुरुद में वृंदावन सरोवर की ओर अब ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसके सुंदरीकरण की योजना ठंडे बस्ते में चली गई है।

वर्ष 2007 में तत्कालीन पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री अजय चंद्राकर ने इसका उद्घाटन किया था। वृंदावन सरोवर का आकार छत्तीसगढ़ के राजधानी रायपुर के बूढ़ा तालाब के रूप में दिया गया है। नगर पंचायत के रहवासियों ने देखरेख करने की मांग की है।

कुरुद नगर पंचायत के बीच में स्थित होने के कारण इस तालाब का सुंदरीकरण बड़ा ही महत्वपूर्ण स्थान रखता है। आज इसकी योजनाएं ठंडे बस्ते में चली गई हैं। विदित हो कि वर्ष 2007 में पूर्व विधायक एवं तत्कालीन पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री अजय चंद्राकर ने वृंदावन सरोवर का उद्घाटन किया था।

इसके सुंदरीकरण और भव्यता को बनाए रखने तथा निरंतर प्रबंधन की जिम्मेदारी नगर पंचायत कुरुद की है, परंतु यहां 15 वर्षों से एक भी नियमित कर्मचारी नहीं है। वृंदावन सरोवर के बीचों- बीच गार्डन बना हुआ है जहां बच्चे खेलते हैं गार्डन में झूला, फिसल पट्टी इत्यादि बने हुए हैं।

कुछ कुर्सियां भी लगी है, परंतु वर्तमान में एक भी उपयोग के लायक नहीं है। सभी टूट-फूट चुके हैं। गार्डन के चारों तरफ घेरा भी नहीं है, जिससे बच्चों के पानी में गिरने- फिसलने का खतरा बना रहता है। यहां असामाजिक तत्वों का भी डेरा लगा रहता है। खुलेआम नशीले पदार्थों का सेवन करते रहते हैं, जिससे आज महिलाएं एवं लड़कियां वृंदावन सरोवर जाने में अपने आप को असुरक्षित महसूस करती हैं।

वृंदावन सरोवर में कर्मचारी के अभाव में नियमित सफाई नहीं हो पाती। गेट भी दिन- रात खुला रहता है। अभी नहर पानी से तालाब लबालब भर चुका है जिससे बच्चों को ज्यादा खतरा है। गार्डन के चारों ओर घेरा नहीं है। सौर ऊर्जा से जैसे-तैसे लाइट की व्यवस्था तो है, लेकिन पर्याप्त नहीं है। आज वृंदावन सरोवर उजड़े चमन जैसे प्रतीत हो रहा है।

नगर पंचायत संरक्षण की ओर ध्यान दे

निर्माण कार्यों को निरंतर संरक्षण की आवश्यकता पड़ती है। नियमित देखरेख के अभाव में इसकी उपयोगिता समाप्त हो जाती है। वर्तमान में इसकी जिम्मेदारी नगर पंचायत की है। जिम्मेदार व्यक्ति ही अपने कर्तव्यों के निर्वहन में कोताही बरत रहे हैं।

-अजय चंद्राकर, विधायक कुरुद विधानसभा

बोट चलाने की थी योजना

वृंदावन सरोवर में बोट भी चलाने की योजना थी। इसके कार्यकाल में तालाब किनारे कांप्लेक्स बनाने की योजना नहीं थी, बल्कि चौपाटी लगाने का प्लान था, ताकि वहां पर ठेले लगाया जा सके। आज नगर पंचायत इसके लिए कुछ नहीं कर पा रही है।

-निरंजन सिन्हा, पूर्व अध्यक्ष नगर पंचायत कुरुद

व्यापार के दृष्टिकोण से विकसित किया गया था

अध्यक्ष ज्योति भानू चंद्राकर ने कहा कि वृंदावन सरोवर को सौंदर्यीकरण और व्यापार के दृष्टिकोण से विकसित किया गया था। पार्किंग के लिए व आम जनता की सहूलियत के लिए पथवे का निर्माण किया था। बोट चलाने की भी योजना थी।

-ज्योति भानू चंद्राकर, पूर्व अध्यक्ष नगर पंचायत कुरुद

नगर पंचायत ध्यान दे

नगर पंचायत कुरुद में उनके कार्यकाल में कई रचनात्मक कार्य हुए थे। वृंदावन सरोवर का गहरीकरण किया गया था और सुंदरीकरण भी हुआ था। आज स्थिति बदहाल है। वर्तमान में नगर पंचायत को प्राथमिकता के साथ कार्य करना चाहिए।

-रविकांत चंद्राकर, पूर्व अध्यक्ष नगर पंचायत कुरुद

सुंदरीकरण के साथ होंगे कई कार्य

वार्ड के नाम के अनुरूप इंदिरा नगर के गार्डन में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की बड़ी प्रतिमा स्थापित की जाएगी और फौव्वारा लगाया जाएगा। गार्डन और तालाब के चारों तरफ पौधरोपण किया जाएगा। वृंदावन सरोवर में बोट भी चलाने की व्यवस्था की जाएगी। इसका प्रस्ताव सरकार को भेजा जा चुका है। चौपाटी दुकान का नए सिरे से मरम्मत किया जाएगा। पुट्टी एवं शटर लगाया जाएगा जिसका चार्ज लिया जाएगा।

-तपन चंद्राकर, अध्यक्ष नगर पंचायत कुरुद।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close