Gangrel Dam In Dhamtari: धमतरी। छत्‍तीसगढ़ के 32.150 टीएमसी क्षमता वाले गंगरेल बांध में 27 टीएमसी जलभराव हो गया है। धमतरी और कांकेर जिले के जंगलों और पहाड़ों में पिछल दिनों हुई बारिश से बांध में बड़ी मात्रा में पानी की आवक हुई। अभी भी कैचमेंट एरिया से पानी की आवक बनी हुई है। बांध 80 फीसद भर गया है। अब तीन जिलों धमतरी, रायपुर और बलौदाबाजार के किसानों को खरीफ फसल की सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिल पाएगा। वहीं रायपुर शहर, धमतरी शहर और भिलाई स्टील प्लांट के लिए भी पानी की आपूर्ति लगातार हो पाएगी।

जल संसाधन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार एक अक्टूबर की स्थिति में 32.150 टीएमसी क्षमता के गंगरेल बांध में 27 टीएमसी जलभराव है। इसमें से 22 टीएमसी पानी उपयोगी है। पांच टीएमसी पानी डेड स्टोरेज माना जाता है। बांध में 2086 क्यूसेक पानी की आवक बनी हुई है, जबकि बांध से 1438 क्यूसेक पानी रुद्री बैराज के लिए रुद्री बराज के रास्ते खरीफ फसल के लिए 1530 क्यूसेक से अधिक पानी महानदी मुख्य नहर में छोड़ा जा रहा है। महानदी मुख्य नहर के माध्यम से धमतरी जिले के अलावा रायपुर और बलौदाबाजार जिले के खेतों में लगी खरीफ धान फसल को सिंचाई के लिए पानी मिल पाएगा।

जल संसाधन विभाग के ईई एमडी महंत ने बताया कि तीन अक्टूबर तक महानदी मुख्य नहर में लगातार पानी छोड़ने की रफ्तार बढ़ाई जाएगी और 6000 क्यूसेक तक की जाएगी, ताकि टेल एरिया तक पानी पहुंच सके। गंगरेल बांध से भिलाई स्टील प्लांट के लिए 252 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। फिलहाल रायपुर शहर के लिए पानी नहीं छोड़ा जा रहा है, लेकिन बांध में पर्याप्त पानी उपलब्ध है। रायपुर शहर और धमतरी शहर को गर्मी के मौसम में भी पर्याप्त पेयजल उपलब्ध हो पाएगा।

अन्य बांधों की स्थिति भी सुधरी

मुरूमसिल्ली बांध की क्षमता 5.839 टीएमसी है। बांध 5.31 टीएमसी भर चुका है। यहां 91 फीसद जलभराव है। बांध में केचमेंट एरिया से पानी की आवक फिलहाल नहीं हो रही है। दुधावा बांध की क्षमता 10.19 2 टीएमसी है। मौजूदा समय में बांध 5. 334 टीएसी भर गया है।

यहां 52 फीसद जलभराव है। 566 क्यूसेक पानी की आवक बनी हुई है। 80 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। सोंढूर बांध की क्षमता 6.995 टीएमसी है। बांध 4.295 टीएमसी भर गया है। 950 क्यूसेक पानी की आवक हो रही है। 499 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local