धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

ठंड का मौसम शुरू होने के साथ गोबर की बिक्री में कमी आई है। जिले के 700 सक्रिय पशु पालकों ने गोबर की बिक्री बंद कर दी है। घरों में अब गोबर से कंडे तैयार करने में ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे हैं, क्योंकि ठंड शुरू होने के साथ कंडे की मांग शहर व ग्रामीण अंचलों में बढ़ जाती है।

जिले के धमतरी, कुरूद, नगरी और मगरलोड समेत सभी नगरीय निकायों में गोबर बेचने वाले 6744 सक्रिय पशुपालक हैं, जो गोबर बेचते आ रहे थे। इसमें से 700 पशुपालकों ने कुछ दिनों से गोबर बेचना बंद कर दिया है। इससे गोबर की खरीदी प्रभावित हुई है। गोबर बिक्री करने वाले पशुपालक मनीष राम, गैंदलाल साहू, ईश्वर, घनश्याम साहू आदि ने बताया कि ठंड के मौसम में कंडे की जरूरत पड़ती है। ऐसे में वे गोबर बिक्री बंद कर अब कंडे घरों में तैयार कर रहे हैं, क्योंकि इसका उपयोग अलाव के लिए भी करते हैं। ठंड के मौसम में शहर व ग्रामीण अंचलों में कंडे की मांग बढ़ गई है। शहर में तो एक कंडा दो रुपये बिकता है। ऐसे में एक किलो गोबर से चार से पांच कंडा तैयार हो जाता है। वहीं ग्रामीण अंचल में कंडा 150 रुपये से 200 रुपये प्रति सैकड़ा बिक रहा है। ऐसे में सामान्य तौर पर दो रुपये किलो में गोबर बेचने के बजाय कंडे में कमाई अधिक होती है इसलिए वे पूरे ठंड माह तक गोबर नहीं बेचकर कंडे तैयार करेंगे।

मच्छर भगाने कंडे का उपयोग

इतना ही नहीं ठंड के मौसम में मवेशियों के कोठों पर मच्छरों का आतंक बढ़ जाता है। मच्छरों से मवेशियों को बचाने के लिए कंडे को जलाकर धुआं से मच्छरों को भगाने के काम भी आता है। इस पद्धति से पशुपालकों को मार्केट से 10 रुपये पैकेट पर मच्छर भगाने के लिए अगरबत्ती खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती है। कंडे से रुपये की बचत होती है। ठंड व गर्मी के मौसम में ज्यादातर पशुपालक कंडे तैयार करते हैं। पूरे बारिश भर गोबर के उपयोग नहीं होने के कारण वे गोठानों में गोबर बेचे। अब खरीफ फसल के लिए गोबर की खाद तैयार भी करेंगे, इसके लिए तैयारी शुरू कर दिए है। घुरूवा में गोबर फेंकर गोबर एकत्र करते हैं, ताकि खरीफ फसल के लिए बेहतर गोबर खाद तैयार हो सके। ग्रामीण अंचल में बड़े किसान गोबर बेचने के बजाए गोबर का उपयोग घरेलू व कृषि कार्य के लिए इस तरह उपयोग कर रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस