Malnutrition In Dhamtari: धमतरी। कोरोना संक्रमण के चलते पिछले दो सालों तक कुपोषण पर सर्वे नहीं हो पाया। कोरोना कम होने के बाद इस साल वजन त्यौहार मनाया गया, तो जिले के 6,801 नौनिहाल मध्यम व गंभीर कुपोषित मिले हैं। कुपोषित नौनिहालों का चिन्हांकन होने के बाद इन्हें सुपोषित करने विभाग के पास फंड की कमी है। फंड उपलब्ध कराने विभाग ने शासन को पत्र लिखा है, ताकि कुपोषण से जंग जीती जा सके। फिलहाल सुपोषण संबंधी सभी कार्यक्रम बंद है।

धमतरी जिले में सात से 16 जुलाई 2021 तक वजन त्योहार मनाया गया। इस दौरान जिले के 1102 आंगनबाड़ियों में आने वाले तीन से छह वर्ष तक के सैकड़ों नौनिहालों का वजन किया गया। साथ ही गांव के अन्य बच्चों का वजन किया गया। इस दौरान जिलेभर से रिपोर्ट तैयार हुई। जिला महिला एवं बाल विकास विभाग को मिली इस साल के रिपोर्ट के अनुसार धमतरी, कुरूद, मगरलोड और नगरी ब्लाक में कुल 6,801 कुपोषित बच्चे हैं। इनमें गंभीर व मध्यम दोनों प्रकार के कुपोषण शामिल हैं। जिलेभर की आंगनबाड़ियों में 50,082 बच्चे आते हैं। इनमें से 6,801 बच्चे कुपोषित है, इसके बावजूद इन बच्चों को सुपोषित करने के लिए जिला स्तर पर कोई पहल नहीं हो रही है।

कुपोषित नौनिहालों को सुपोषित करने जिला महिला एवं बाल विकास विभाग के पास फिलहाल फंड नहीं है, ऐसे में जनवरी 2021 से कोई भी सुपोषण संबंधी कार्यक्रम नहीं चल रहा है। कुपोषण बढ़ने के बाद भी अधिकारी बच्चों को सुपोषित करने गंभीर नहीं है। 13 अक्टूबर को कार्यालयीन समय पर ज्यादातर आंगनबाड़ी बंद मिली, जबकि शासन के आदेशानुसार हर रोज बच्चों को गर्म भोजन दिया जाना है।

अधिकारी का दावा, कुपोषण में दो प्रतिशत की आई कमी

जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी एमडी नायक ने बताया कि कोरोना के चलते दो सालों तक कुपोषण का सर्वे नहीं हो पाया था। सात जुलाई से 16 जुलाई तक वर्ष 2019 में जिले में 9788 बच्चे गंभीर व मध्यम कुपोषित थे, यह आंकड़ा घटकर प्रति वर्ष के अनुसार दो प्रतिशत कमी आई है। सात जुलाई से 16 जुलाई 2021 तक चले वजन त्यौहार में जिलेभर में 6801 कुपोषित बच्चे मिले हैं, जो कुपोषण का 12.11 प्रतिशत है। वर्ष 2019 में कुपोषण का प्रतिशत जिले में 16.8 था। सुपोषण अभियान के लिए विभाग के पास फिलहाल फंड नहीं है। कुपोषण से लड़ने सुपोषण अभियान चलाने के लिए राज्य सुपोषण निधि व जिला प्रशासन को फंड उपलब्ध कराने पत्र लिखा गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local