धमतरी। नईदुनिया प्रतिनिधि छत्तीसगढ़ क्रांति सेना के प्रदेश अध्यक्ष ने जैन समाज के धर्म गुरुओं के खिलाफ अभद्र और अनर्गल शब्दों का प्रयोग किया है। इसके विरोध में धमतरी के जैन समाज के लोगों ने 26 मई को एसडीएम कार्यालय में प्रदर्शन कर कार्रवाई की मांग की।

जैन संवेदना ट्रस्ट के महेन्द्र कोचर व विजय चोपड़ा ने इसकी निंदा की है। महेन्द्र कोचर व विजय चोपड़ा ने कहा कि जैन धर्मावलंबियों का छत्तीसगढ़ में हजारों वर्षों का ऐतिहासिक प्रमाण है। अमित बघेल ने जैन धर्म के साथ छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विरासत का अपमान किया है।

प्रदेश सचिव,छत्तीसगढ़ जैन युवा श्रीसंघ ने बताया कि सारे विश्व में अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले, आपसी प्रेम सद्भभावना एवं भाईचारा बढ़ाने वाले, जियो और जीने दो का संदेश देने वाले और जगत के सभी प्राणीमात्र के प्रति करुणा भाव धारण करने वाले जैन मुनियों के बारे में ऐसी धारणा रखने वाले और खुले मंच से उनके प्रति ऐसी घटिया भाषा का प्रयोग करने वाले कि मानसिकता का अंदाजा स्वयं लगाया जा सकता है।

अमित बघेल जिन्होंने आज जैन मुनियों के बारे में बहुत ही अपशब्दों का प्रयोग किया है, यह छत्तीसगढ़ राज्य जो कि आपसी प्रेम और सद्भाव के लिए जाना जाता है, के लिए अच्छा सूचक नहीं है और यह बयान इस प्रेम सद्भावना के वातावरण में जहर घोलने वाला कृत्य है।

समाज में वैमनस्यकता फैलाने, अल्पसंख्यक समुदाय के धर्म गुरुओं के प्रति अपशब्द का प्रयोग करने, आपस में बैर को बढ़ावा देने, असामाजिकता फैलाने, जातिगत फूट डालने, आपसी रंजिश को बढ़ावा देने वाले, भड़काऊ भाषण देकर जनता को अनैतिक कार्य करने को उकसाने, बलि प्रथा को बढ़ावा देने आदि अन्य कुकृत्य के खिलाफ अमित बघेल अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ क्रांति सेना के खिलाफ जैन संवेदना ट्रस्ट ने कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close