सांकरा। नगरी ब्लाक के ग्राम पंचायत चवर्री के माध्यमिक शाला के छात्र-छात्राएं और पालक बरसते पानी में ट्रैक्टर में सवार होकर शिक्षक की मांग करने ब्लाक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पहुंचे थे।

बच्चे यहां अनिश्चतकालीन धरना देने के उद्देश्य अपने साथ, दाल, चावल, तंबू, बर्तन और कपड़े लेकर आए थे। इससे प्रशासन हरकत में आया और तत्काल एक शिक्षक की नियुक्ती की गई। इसके बाद बच्चे पालकों के साथ अपने गांव वापस लौट गए

सरपंच बिसाहूराम वट्टी ,दीपेश कुमार ,राजाराम मरकाम ने बताया की ब्लाक मुख्यालय से 40 किमी दूर पर वनांचल मे ग्राम पंचायत चिवर्री सांकरा है। यहां की शासकीय माध्यमिक शाला में 60 बच्चे अध्ययनरत हैं। केवल एक प्रधानपाठक के सहारे स्कूल संचालित हो रहा था।

प्रधानपाठक भी दो-तीन माह मे रिटायर होने वाले हैं। ग्रामीण कई बार जिला शिक्षा अधिकारी, ब्लाक शिक्षा को आवेदन देकर शिक्षक की मांग कर चुके हैं।

समस्या बताकर मांग करने पर विधायक ने भी जल्द यहां शिक्षक की व्यवस्था करने बीईओ को निर्देशित किया था। उसके बाद भी शिक्षक की पदस्थापना नहीं की गई। इससे आक्रोशित पालक स्कूल के बच्चों को लेकर ब्लाक मुख्यालय पहुंचे, जहा पालकों व बच्चों को देखकर तत्काल एक शिक्षक की व्यवस्था की गई।

चावल, दाल, बर्तन और तंबू लेकर पहुंचे थे

पालक विनायक नागवंशी, नरायण गोटा, विमल मरकाम, गणेश नेताम, अशोक, शोभराय, सुरेश ने बताया की ग्राम पंचायत के पांच आश्रित ग्राम के बच्चे यहा माशा में अध्ययन करने आते हैं।

शिक्षक की कमी के चलते बच्चे पढ़ाई नहीं कर पा रहे थे। कई बार अधिकारियों, जनप्रतिनिधियो से मांग करने के बाद भी जब मांग पूरी नहीं हुआ तो सारे बच्चे-पालकों के साथ चावल, दाल लेकर पहुंचे थे। जब तक मांग पूरा नहीं होता। ब्लाक शिक्षा परिसर मे तंबू लगाकर बैठ जाते।

त्वरित समाधान किया गया

ग्रामीणों की मांग पर तत्काल बच्चों को अध्यापन कराने शिक्षक बल्दू नेताम को आदेशित किया गया है। ग्रामीणों व बच्चों की समस्या का त्वरित समाधान किया गया।

-सतीश प्रकाश सिंह, ब्लाक शिक्षा अधिकारी नगरी

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local