धमतरी। सावन माह के अंतिम सोमवार को असहनीय धूप खिला। लोग गर्मी व उमस से बेहाल रहे, लेकिन शाम को तेज गर्जना व कड़कड़ाती बिजली के साथ करीब आधे घंटे तक झमाझम वर्षा हुई। इस वर्षा से लोगों ने राहत की सांस ली।

अच्छी वर्षा होने से किसानों के चेहरे खिल गए। अब खेती-किसानी के कार्यों में तेजी आएगी।

आठ अगस्त की सुबह कुछ समय के लिए रिमझिम वर्षा हुई। सावन माह के अंतिम सोमवार को सुबह रिमझिम वर्षा हुई, तो श्रद्धालुओं की भीड़ झूमे। कुछ समय बाद तेज धूप खिला, जो असहनीय था। मौसम खुलने के बाद भारी गर्मी व उमस होने से लोगों की बेचैनी बढ़ गई। पंखा व कूलर के बीच जाकर राहत महसूस किया।

सिर पर गमछा ढककर लोग चल रहे थे। दोपहर को मौसम में अचानक बदलाव होने के साथ तेज गर्जना के साथ हल्की वर्षा शुरू हुई। धीरे-धीरे वर्षा की बूंदे बढ़ी और करीब पौन घंटे तक झमामझ वर्षा हुई। इस वर्षा से लोगों ने राहत की सांस ली।

सावन माह खत्म होने में अब तीन दिन शेष है, ऐसे में पिछले दो दिनों से वर्षा का दौर जारी है, जो किसानों के लिए काफी फायदेमंद है। किसान भोलाराम, मनहरण कुमार, शंकर लाल साहू, रमेश कुमार का कहना है कि यह बारिश किसानों के धान फसल के लिए काफी फायदेमंद है। धान के पौधों का तेजी से विकास होगा। वहीं किसान अपने खेतों में अब खाद का छिड़काव करेंगे।

जिले में 717 मिमी औसत वर्षा दर्ज

जिले में एक जून से अब तक 717.6 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। भू अभिलेख शाखा से मिली जानकारी के मुताबिक सबसे अधिक वर्षा नगरी तहसील में 868.2 मिमी वर्षा दर्ज की गई है। वहीं भखारा तहसील में सबसे कम 522.5 मिलीमीटर वर्षा हुई है।

इसी तरह कुकरेल तहसील में 868 मिलीमीटर, धमतरी में 815.1 मिलीमीटर, मगरलोड में 693.8 मिलीमीटर और कुरूद तहसील में 537.8 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले में आठ अगस्त को औसत वर्षा 27.3 मिलीमीटर दर्ज की गई है। सबसे अधिक मगरलोड तहसील में 33 मिलीमीटर वर्षा हुई है।

वहीं सबसे कम कुकरेल तहसील में 22.3 मिलीमीटर हुई है। इसी तरह नगरी तहसील में 32.3 मिलीमीटर, कुरूद में 27.3 मिलीमीटर, धमतरी में 26.4 मिलीमीटर और भखारा तहसील में 22.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।

---

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close