धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। अंचल में रबी धान फसल की कटाई-मिंजाई जोरो पर है। भीषण गर्मी को देखते हुए 80 प्रतिशत किसान हार्वेस्टर पर धान फसल की कटाई-मिंजाई करा रहे हैं। मिंजाई के बाद पराली खेतों में बेकार पड़ा हुआ है। किसान अपने खेतों के पराली एकत्र नहीं कर रहे हैं, ऐसे में गोठान समिति व पंचायतों के माध्यम से इस पराली को गोठानों में संग्रहित किया जा सकता है। समय रहते यदि संग्रहित नहीं किया गया, तो किसान खरीफ फसल की तैयारी के लिए आग के हवाले कर देंगे।

जिले के धमतरी, कुरूद, मगरलोड और नगरी में ब्लाक में 270 से अधिक सक्रिय गोठान है, जहां मवेशियों को रखा जाता है। इन गोठानों में मवेशियों के लिए पराली की व्यवस्था नहीं है। जबकि बारिश के मौसम आने में अब ज्यादा समय नहीं है, ऐसे में गोठानों में पराली एकत्र करने गोठान समिति व पंचायतों के पास अब गिनती के दिन है। इधर रबी धान फसल की कटाई-मिंजाई के बाद बड़ी मात्रा में सैकड़ों खेतों पर धान फसल की कटाई-मिंजाई के बाद खेतों में बेकार पड़ा हुआ है। जिला प्रशासन लगातार गोठान समिति, जनप्रतिनिधियों व पंचायतों को गोठानों में मवेशियों के लिए पराली एकत्र करने अपील कर रहे हैं, लेकिन कोई गंभीर नहीं है।

ऐसे में मविशयों को बारिश के दिनों में गोठानों पर भूखा रहना पड़ेगा। इससे पहले पूरे गर्मी सीजन में मवेशी गोठानों पर भूखा रहा है। इस संबंध में कलेक्टर पीएस एल्मा ने किसान, गोठान समिति, पंचायत प्रतिनिधियों व क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों को रबी सीजन के धान फसल कटाई-मिंजाई के बाद खेतों में पड़े पराली को गोठान तक लाकर दान करने अपील की है।

खेतों में पड़ा है पराली

रबी धान फसल की कटाई-मिंजाई के बाद महानदी मुख्य नहर किनारे ग्राम कोलियारी, शंकरदाह, बोड़रा, सांकरा, पीपरछेड़ी, खरेंगा, अमेठी, कलारतराई, खरतुली, परसतराई, लोहरसी, मुजगहन, पोटियाडीह समेत अंचल के कई गांवों में किसानों के खेतों पर धान कटाई-मिंजाई के बाद पराली पड़ा हुआ है। गोठान समिति व पंचायत चाहे तो इस पराली को 15वें वित्त की राशि परिवहन में खर्च कर गोठानों में पराली एकत्र कर सकते हैं। समय रहते यदि पराली इकट्ठा नहीं किया गया, तो किसान जल्द ही खरीफ सीजन की तैयारी के लिए खेतों में पड़े पराली को जलाएंगे, ऐसे में पूरा पराली जलकर खाक हो जाएगा। वहीं पराली जलने से किसानों को नुकसान होगा, क्योंकि खेतों में आगजनी से किसान मित्र कीट मर जाएंगा, जो फसल के लिए नुकसानदायक है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local