धमतरी। जिले में 370 ग्राम पंचायतें है, जिसमें कई गांव ऐसे है, जहां की गलियां शाम होते ही अंधेरा में तब्दील हो जाती है। ऐसे गांवों की गलियों को सोलर सिस्टम से उजियारा कराने राज्य शासन कोई नया स्कीम लागू करें, ताकि ग्रामीणों को इसका फायदा मिल सके। वनांचल क्षेत्रों के गांवों में अंधेरे की समस्या ज्यादा है। ग्रामीणों को छग विधानसभा बजट में राज्य सरकार से इस स्कीम को लागू कराने की उम्मीद है।

धमतरी व कुरुद ब्लाक के कई गांवों में रूर्बन मिशन योजना लागू है। इन गांवों के चौक-चौराहों पर क्रेडा विभाग ने हाईमास्ट सोलर लाइट लगाई है, जहां शाम होते ही उजियारा फैल जाता है। इस साल विभाग को 600 सोलर पंप लगाने का लक्ष्य है। लक्ष्य कम होने से कम किसानों को योजना का लाभ मिलता है।

धमतरी जिले में पिछले चार सालों में सिर्फ 1400 किसान ही इस योजना से लाभान्वित हुए हैं। लक्ष्य बढ़ने पर अधिकाधिक किसान लाभान्वित होंगे। वहीं बायोगैस स्कीम में भी लक्ष्य बढ़ाएं, ताकि पशुपालन करने वाले जरूरतमंद परिवार अपने घरों में बायोगैस संयंत्र लगा सके। इस साल जिले में 200 बायो गैस बनाने का लक्ष्‌य मिला है। जिलेवासियों की मांग है कि दोनों महत्वपूर्ण योजना का लक्ष्य बढ़ाया जाए, ताकि जरूरतमंदों को लाभ मिल सके। क्रेडा विभाग के जिला प्रभारी कमल पुरैना का कहना है कि बजट से संबंधित जानकारियां उनके विभाग में राज्य स्तर से भेजा जाता है।

गांवों में सोलर लाइट को बढावा दिया जाए

बसपा के जिला उपाध्यक्ष ग्राम मड़ईभाठा निवासी कल्याण निर्मलकर का कहना है कि शासन-प्रशासन गांवों में सोलर लाइट को बढ़ावा दे, इसके बेहतर परिणाम सामने आएगा। सूर्य ऊर्जा का महत्वपूर्ण स्रोत है, इसका गांवों में अधिकाधिक उपयोग होना चाहिए। ग्रामीण क्षेत्र में कई किसान सोलर पंप चलाकर खेतों की सिंचाई करते हैं, यह अच्छी पहल है।

गलियों में लगाई जाए सोलर लाइट

ग्राम पंचायत देवपुर के ग्रामीण भारत राम साहू का कहना है कि राज्य शासन इस साल के विधानसभा बजट में गांवों की गलियों में सोलर लाइट लगाने की स्कीम की घोषणा करें। ताकि पंचायतों को स्ट्रीट लाइट में भारी भरकम बिजली बिल पटाना न पड़े। चौक-चौराहों और गलियों में सोलर पोल लगाकर दुधिया रोशनी फैलाने की मांग की है।

प्रमुख चौक पर लगे सोलर हाई मास्क

ग्राम पंचायत भोथली के किसान तुलाराम साहू का कहना है कि जिस तरह रूर्बन मिशन के गांवों में सोलर हाई मास्क लाईट लगाया गया है, ठीक इसी तरह शासन प्रत्येक गांवों के प्रमुख चौक-चौराहों पर हाईमास्क र्लाट लगाए, ताकि जरूरत पड़ने पर ग्रामीण इस दूधिया लाईट का उपयोग कर सकें। वहीं मैदानी इलाके वाले गांवों में भी गर्मी में पेयजल संकट से बचाने के लिए हैंडपंप सोलर सिस्टम लगाया जाना चाहिए।

हाथी प्रभावित ग्रामीणों को टार्च का करें वितरण

हटकेशर वार्ड धमतरी निवासी ईश्वर पटेल का कहना है कि शहर के सभी खेल मैदानों में सोलर हाई मास्ट लाइट लगाया जाए। ताकि खिलाड़ी खेल मैदानों का उपयोग रात में खेलने के लिए कर सकें। वहीं इन दिनों धमतरी व नगरी क्षेत्र में लोग हाथियों से परेशान है। इन लोगों को शासन क्रेडा विभाग के माध्यम से सोलर टार्च का उपयोग करें, ताकि ब्लैकआउट की स्थिति में इस टार्च का उपयोग ग्रामीण कर सकें।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags