धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

देव शिल्पी भगवान विश्वकर्मा की जयंती 17 सितंबर को मनाई जाएगी जाएगी। बुधवार को कुम्हारपारा में परम देव शिल्पी की मूर्तियों को अंतिम रूप दिया गया। निर्माणकर्ता, निर्माण श्रमिकों के आराध्य देव भगवान विश्वकर्मा की जयंती को लेकर निर्माणी श्रमिकों में उत्साह है । 17 सितंबर को अलग-अलग स्थानों पर भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति स्थापित कर पूजा-अर्चना की जाएगी। कोरोना वायरस के कारण सभी तीज त्यौहार शांतिपूर्वक ढंग से मनाए जा रहे हैं। विश्वकर्मा जयंती भी सादगी से मनाई जाएगी। निर्माणी श्रमिक संघ के अध्यक्ष तिलक देवांगन ने बताया कि इस बार कोरोना संक्रमण के कारण बाजे- गाजे के साथ जयंती नहीं मनाई जा रही। कुम्हापारा में लगभग 20 से 25 मूर्तियां मूर्तियां बनाई गई हैं। बुधवार को मूर्तिकार गवान विश्वकर्मा की मूर्तियों को अंतिम रूप दिया। मूर्तिकार शंकर कुंभकार, हेमराज कुंभकार, रामस्वरूप कुंभकार, मुरली कुंभकार, कमलेश कुंभकार ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इस बार सीमित संख्या में मूर्तियां तैयार की गई है। जिन्होंने आर्डर दिया है वे इसे 17 सितंबर की सुबह ले जाएंगे ले जाएंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020